राष्ट्रीय क्षत्रिय जन संसद अधिवेशन में गवर्निग काउंसिल का गठन

नई दिल्ली। अखिल भारतीय राष्ट्रीय क्षत्रिय महासभा ने नेतृत्व में राजधानी दिल्ली के कास्टीट्यूशन क्लब के स्पीकर हाल में राष्ट्रीय क्षत्रिय जन संसद का विस्तार किया गया और 250 जन संसद के सांसदों का मनोनित किया गया। जनसंसद सदस्यांे की संख्या 350 पंहुच गई है और जल्द ही 1500 सदस्यों का नियुक्ति पुरी कर ली जायेगी। देश के विभन्न 25 राज्यों से आये हुए प्रतिनिधि शामिल हुए। अधिवेशन में 21 सदस्यीय मार्गदर्शक मंडल का भी गठन किया गया।

प्रत्येक जिले से तीन तीन जन सांसद सदस्य नियुक्ति किये जाने है।गौरतलब है कि देश के कोने-कोने से सभा में आई महिलाओं ने राम वंशज राजा राजेन्द्र सिंह की पुजा अर्चना की और आरती उतारी। इस मौके पर राजा राजेन्द्र सिंह ने कहा कि भारत प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और देश के सर्वोच्च उदालत के पांचों जजो ने सत्य का फैसला किया और राज जन्म भूमि में भगवान राम को ही को मालिकाना हक दिया  और चार सौ वर्षो का भारत भूमि का कलंक को अलविंदा कर दिया। हम क्षत्रिय समाज की तरफ से कोटि-कोटि नमन करते हुए धन्यवाद देते है।

इसी के साथ-साथ राजा राजेन्द्र सिंह ने कहा कि भारत में राजनैतिक जन प्रतिनिधी आरक्षण को तत्काल समाप्त करे सरकार। साथ ही एससीएसटीएक्ट को भी विचार करे और मानवअधिकार के हित में काम करे।  इसके अलावा केंद्र सरकार द्वारा गठित होने वाले न्याय में राम के वंशजों को 50 फीसद हिस्सेदारी देने का सर्व सम्मति से प्रस्ताव पारित किया गया।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account