प्रमुख सुर्खियाँ :

मिथिला को लेकर अभ्यदुय ने दिया 10 सूत्रीय ज्ञापन, आपदा मंत्री लक्ष्मेश्वर राय ने दिया आश्वासन

पटना / मधुबनी। बिहार सरकार के आपदा एवं प्रबंधन मंत्री श्री लक्ष्मेश्वर राय ने कहा कि मिथिला की समस्याओं के लिए निदान के लिए स्वयंसेवी संस्था अभ्युदय एक बेहतर सोच के साथ जमीन पर काम कर रही है। हाल ही में कोरोना काल में जिस प्रकार से मिथिला के कई गांवों में संस्था के युवा कार्यकर्ताओं ने जो राहत अभियान चलाया है, वह सराहनीय है। आज मिथिना की समस्याओं को लेकर जो ज्ञापन मुझे दिया गया है, हम और हमारा विभाग उसे गंभीरता से लेगा। विभागीय स्तर पर यथासमय उसका निदान किया जाएगा।

राज्य के आपदा मंत्री श्री लक्ष्मेश्वर राय ने ये बातें कहा स्वंयसेवी संस्था अभ्युदय के अध्यक्ष विभय कुमार झा से मुलाकात के दौरान कही। अभ्युदय के अध्यक्ष विभय कुमार झा ने बताया कि हमने संस्था की ओर से 10 सूत्रीय ज्ञापन मंत्री जी को दिया। इस मुलाकात के दौरान हमारे साथ जदयू के युवा प्रदेश महासचिव आशुतोष कुमार भी थे। मंत्री जी ने हमारी मांगों को गंभीरता से लिया है और उसके समाधान के लिए कार्य करने की बता कही है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि हम स्वयं मिथिला के लिए बेहतर योजनाओं के साथ काम कर रहे हैं।

अभ्युदय के अध्यक्ष व युवा भाजपा नेता विभय कुमार झा ने कहा कि हमने अपनी 10 मांगों में मुख्य रूप से मिथिला के लोगों और अभी जो बाहर से हमारे भाई अपना काम धंधा छोडकर आए हैं, उनकी ओर सरकार के मंत्री का ध्यान आकृष्ट कराया है। राजधानी पटना में करीब घंटे भर की मुलाकात में मंत्री का रवैया बेहद सकारात्मक रहा। उन्हें मिथिला की समस्याओं के समाधान के लिए कई बातें की। जिससे हमें पूरा भरोसा है कि उनके विभाग की ओर से आने वाले समय में क्षेत्र में बढिया काम होगा। विभय कुमार झा ने कहा कि मारे मजदूर भाई-बहन अपने गांवों में आ रहे हैं। उनके परिवार और उनके सामने आने वाले दिनों में जीवनयापन का संकट आने वाले हैं। इसको लेकर वे लोक काफी चिंतित हैं। वे कई वर्षों से अपने गांव और राज्य से दूर काम कर रहे थे। हमने मंत्री जी से कहा कि किसानों का फसल बर्बाद हो चुका है। असमय बारिश और आंधी ने आम और लीची की फसल को भारी नुकसान पहुंचाया है। किसानों के सामने आर्थिक संकट आ गया है। साथ ही यह भी बताया कि अभी की बारिश में लोग बीमार हो रहे हैं। कोरोना वायरस के डर से उन्हें प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर समुचित सुविधा नहीं मिल पा रही है। कई प्रखंडों में कोरोना टेस्ट की सुविधा उपलब्ध नहीं है। बारिश की अधिकता से अभी लोग परेशान हैं। आने वाले महीनों में बाढ से जूझना होगा। नदी किनारे बसे गांवों के लोग अभी से चिंतित हैं। मिथिला के जिले विशेषकर मधुबनी और दरभंगा के तमाम स्कूलों को क्वारंटीन सेंटर पर बदल दिया गया है। ग्रामीणांे को डर है कि इससे गांव के बच्चों में कोरोना वायरस का संक्रमण बढ सकता है। ग्रामीणांे की मांग है कि स्कूलों के बजाय कहीं और इस सेंटर को बनाया जाए। साथ ही पूरे स्कूल को अच्छी तरह से सेनिटाइज किया जाए।
विभय कुमार झा ने कहा कि जिस गंभीरता के साथ मंत्री महोदय ने हमारी बातें सुनीं, उससे हमारी संस्था काफी आशान्वित है।

टीम डिजिटल

leave a comment

Create Account



Log In Your Account