प्रमुख सुर्खियाँ :

एयरटेल ने गांवों में भारतनेट के जरिए ब्रॉडबैंड अनुभव केंद्रों की शुरूआत की

नई दिल्ली। दूरसंचार सेवा कंपनी भारती एयरटेल (एयरटेल) ने कहा कि उन्होंने ग्रामीण भारत में ब्रॉडबैंड के विस्तार के लिए दूरसंचार विभाग के साथ साझेदारी की है और भारतनेट के इंफ्रास्ट्रक्चर के माध्यम से ब्रॉडबैंड अनुभव केंद्रों का पायलट शुरू किया हैं। एयरटेल ने उत्तर प्रदेश के गाजीपुर, गोरखपुर और वाराणसी जिलों से संबद्ध तीन गांवों में तीन ब्रॉडबैंड अनुभव केंद्र शुरू किए हैं। एयरटेल पहले से ही लगभग 30500 ग्राम पंचायतों में भारतनेट के साथ साझेदारी करने हेतु प्रतिबद्ध है। अन्य डिजिटल और वेब आधारित सेवाएं प्रदान करने के लिए, एयरटेल ने जीवा आयुर्वेद (आॅनलाइन स्वास्थ्य परामर्श), तक्षशिला ई-लर्निंग सर्विसेज (शैक्षणिक सेवाएं), और अमेजॉन (अमेजॉन एको स्मार्ट स्पीकर) के साथ सांझेदारी की है।
इस मौके पर गोपाल विट्टल, एमडी एन्ड सीईओ, (भारत और दक्षिण एशिया), भारती एयरटेल ने कहा कि ब्रॉडबैंड से ग्रामीण निवासियों का आर्थिक विकास एवं सामाजिक कल्याण संभव हो पाएगा। हम हर भारतीय तक ब्रॉडबैंड की पहुंच को सुनिश्चित करने और विशेष रूप से भारतनेट के तहत दूरसंचार विभाग का कार्य सराहनीय है और हमें इसमें योगदान देने में बेहद खुशी है। दूरसंचार विभाग के साथ साझेदारी में एयरटेल द्वारा भारतनेट इंफ्रास्ट्रक्चर पर स्थापित ब्रॉडबैंड अनुभव केंद्र से लाखों भारतीयों के लिए डिजिटल दुनिया के दरवाजे खुलेंगे और उनके लिए कई अवसर उपलब्ध होंगे।
वहीं, जयश्री गुरुराज, डायरेक्टर, अमेजॉन डिवाइसेस ने कहा कि प्रौद्योगिकी, सामग्री और इंटरनेट तक प्रारंभिक पहुंच में जीवन को समृद्ध करने की क्षमता है। यह तकनीकी जानकारियों और भाषा के बंधन को तोड़ देता है। हमें गाजीपुर, गोरखपुर, एवं वाराणसी में उपयोगकर्ताओं के समक्ष नवीनतम वॉयस टेक्नोलॉजी से लैस अमेजॉन इको स्मार्ट स्पीकर्स को प्रस्तुत करने के लिए एयरटेल और डीओटी के साथ सहयोग करते हुए अत्यंत प्रसन्नता हो रही है।
डॉ. प्रताप चौहान, डायरेक्टर, जीवा आयुर्वेद, ने कहा कि जीवा आयुर्वेद एक अग्रणी आयुर्वेदिक उपचार सेवा प्रदाता कंपनी है, जो आयुर्वेद के क्षेत्र में दुनिया के सबसे बड़ा टेलीमेडिसिन केंद्र का संचालन करती है। हमें एयरटेल के साथ साझेदारी पर गर्व है और हम भारतनेट की इस सफलता तथा महत्वाकांक्षी पहल में डीओटी के प्रयासों की सराहना करते हैं। 2.5 लाख ग्राम पंचायतों को जोड़ने से निश्चित तौर पर किफायती एवं गुणवत्तायुक्त स्वास्थ्य सेवाएं जमीनी स्तर पर उपलब्ध होंगी।
उल्लेखनीय है कि भारतनेट के अंतर्गत, दूरसंचार विभाग (भारत सरकार) ने आॅप्टिकल फाइबर कनेक्टिविटी के साथ 2.5 लाख ग्राम पंचायत के गांवों को जोड़ने के लिए एक दूरदर्शी परियोजना का शुभारंभ किया है। इस परियोजना में ब्लॉक मुख्यालय से ग्राम पंचायत स्तर तक आॅप्टिकल फाइबर के विस्तार की परिकल्पना की गई है। पहले चरण में, ग्रामीण आबादी को निर्बाध ब्रॉडबैंड कनेक्टिविटी प्रदान करने के लिए एक लाख गांवों को आॅप्टिकल फाइबर से जोड़ा गया है। परियोजना के दूसरे चरण में शेष 1.5 लाख ग्राम पंचायतों को जोड़ने का लक्ष्य रखा गया है, जिसे मार्च 2019 तक पूरा कर लिया जाएगा।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account