नीयत ही तो नहीं फिर विकास कैसे : हुड्डा

कमलेश भारतीय

नयी दिल्ली : हरियाणा की राजनीति गर्मी की तरह तपती जा रही है । सभी दल सक्रिय हो चुके हैं । मुख्यमंत्री हर जिला मुख्यालय पर रोड शो में आमजन को अपनी तरफ खींचने में लगे हैं तो इनेलो बसपा गठबंधन भी सक्रिय हैं । कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर साइकिल को ढाल बना रहे हैंं । ऐसे में पूर्व मुख्यमंत्री पूरी तरह स्वस्थ होकर तीन जून को समानता से रथयात्रा शुरू करने जा रहे हैंंंं । हरियाणा की राजनीति के और उनकी रथयात्रा पर नयी दिल्ली पंत मार्ग स्थित आवास पर विशेष बातचीत प्रस्तुत हैंंंं ।

-भाजपा ने चार साल बाद नारा बदल लिया -साफ नीयत, सही विकास । क्या कहेंगे इस नारे पर ?
-नीयत ही तो नहीं हैंं इनकी साफ । फिर विकास कैसे ? इनके बारे में तो यही नारा हैंंंं -सबका साथ , अपना विकास और सबका सर्वनाश ।

-मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर रोड शो शुरू कर चुके हैं । क्या प्रभाव है उनके रोड शो का ?
-कोई प्रभाव नहीं । रोड शो के बहाने अपने लिए सुरक्षित विधानसभा क्षेत्र खोज रहे हैं । दूसरे रोड शो के लिए तंग गलियां , बाजार ही क्यों चुनते हैं ? क्योंकि खट्टर जानते हैं कि भीड नहीं जुटा पाएंगे । जनसभाओं में भी लोग नहीं आते। जींद की रैली के बाद तो सारी पोल खुल गयी । भीड इकट्ठी नहीं होती ।

-अनिल विज आप पर प्रतिकूल टिप्पणियां कर रहे हैं । क्या कहेंगे आप ?
-क्या कहूं ? जोकर का काम कर रहा है विज । लोगों को हंसाओ और गायब हो जाओ दृश्य से । इसीलिए इनकी टिप्पणियों को कोई सीरियसली नहीं लेता ।

-भाजपा सरकार की उपलब्धियों पर क्या कहेंगे ?
-उपलब्धियां कहां और किसकी ? साढे तीन वर्ष तक राह देखने के बाद मैंने भाजपा सरकार की विफलताओं पर बोलना शुरू किया । कोई एक उपलब्धि हो तो खट्टर बताएं । एचएसएससी के चेयरमैन को निलंबित करना पडा क्योंकि इसे हरियाणा सर्विस सेल सेंटर कहा जाने लगा था । क्या कभी किसी प्रशासनिक अधिकारी को इसका चेयरमैन बनाया गया इससे पहले ? अकेला चेयरमैन कैसे जिम्मेदार है ? पर्चा परीक्षा से पहले ही लीक और बिक कैसे जाता था ? सब बिकाऊ सौदा बन कर रह गया ।

-हरियाणा में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष को लेकर जब तब कुछ न कुछ नाम उछलते रहते हैं । ऐसा क्यों ?
-देखिए , कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी को बाकायदा प्रस्ताव पारित कर अधिकृत किया गया हैं । प्रस्ताव भी मैंने ही पारित करवाया । अब वे जिसे चाहे अध्यक्ष बना दें ।

-रथयात्रा क्या लगातार चलेगी ?
-नहीं । हर माह दो या तीन जिलों में चलेगी । लगभग छह माह में सारे जिले कवर करवा लेंगे ।

-इनेलो बसपा गठबंधन कितना असर करेगा ?
-कोई फर्क नहीं पडेगा क्योंकि पिछली बार यह मतदान से पहले ही टूट गया था । इस बार क्या होगा , देख लीजिएगा । इन्हें एक दूसरे पर विश्वास ही कहां है ?

-खिलाडियों का सम्मान समारोह रद्द करना पडा सरकार कोई ?
-यह खिलाडियों का अपमान है । खिलाडियों ने बहिष्कार कर दिया तो सम्मान समारोह रद्द कर दिया । खिलाडियों को निराश किया ।

एडमिन

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account