प्रमुख सुर्खियाँ :

Business News, ए ग्रेड वाली है Paytm Money की 2021 की रिपोर्ट

नई दिल्ली। पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने 2021 की वाषिZक रिपोटZ को जारी की है। वन97 कम्युनिकेशंस उपभोक्ताओं और व्यापारियों के लिए भारत के अग्रणी डिजिटल इकोसिस्टम ब्रांड पेटीएम का मालिकाना हक रखता है। पेटीएम मनी अपने प्लेटफॉमZ पर डायरेक्ट म्यूचुअल फंड, स्टॉक, आईपीओ, एफएंडओ, ईटीएफ और एनपीएस सहित निवेश उत्पादों की पेशकश के जरिए देश में संपत्ति सृजन में योगदान दे रहा है। इस विस्तृत रिपोटZ में पेटीएम मनी के निवेशकों के पिछले साल उनकी संपत्ति में हुई वृद्धि और निवेश के लिए उनके पसंदीदा विकल्‍प के बारे में विस्तार से जानकारी दी गई है।

छाए रहे मिलेनियल्स

इक्विटी बाजारों में भारत की खुदरा भागीदारी 2021 में मजबूत रही। इसका नेतृत्व एक बार फिर मिलेनियल निवेशकों ने किया, जिसमें लगभग 80ः पेटीएम मनी निवेशक 35 वर्ष से कम आयु के थे। लेकिन पिछले वर्ष के दौरान नए मिलेनियल्स निवेशकों की संख्या में इजाफा हुआ। विविधीकरण और अनुशासन को उनके निवेश पैटनZ में स्पष्टता से देखा जा सकता है। मिलेनियल्स निवेशकों ने भी लंबी अवधि के कर-बचत उत्पादों में रुचि ली, जो निवेश के प्रति परिपक्‍व दृष्टिकोण का संकेत देते हैं। ये निवेशक कीमत के प्रति संवेदनशील भी बने रहे क्योंकि वे ट्रेडिंग ब्रोकरेज और कमीशन पर होने वाली बचत पर नजर रखे हुए थे।

इक्विटी एयूएम तिगुनी हुई

इक्विटी सेगमेंट के भीतर, प्रति यूजर औसत एसेट अंडर मैनेजमेंट (प्रबंधित संपत्ति) 2021 में तीन गुनी हो गई। प्रति यूजर ट्रेड किए गए शेयरों की औसत संख्या भी 12 से बढ़कर 30 हो गई, जो उच्च विविधीकरण का संकेत देती है। 2021 में ईटीएफ खरीदने वाले मिलेनियल्स के अनुपात में भी पोटZफोलियो के भीतर ईटीएफ की औसत संख्या में 50%की वृद्धि के साथ तेज वृद्धि देखी गई।

लोकप्रिय हुई इंट्रा डे ट्रेडिंग

2021 में मिलेनियल्स की ट्रेडिंग गतिविधि काफी अधिक रही। इंट्राडे ट्रेडिंग करने वाले मिलेनियल्स यूजसZ का अनुपात 2020 में 39ः से बढ़कर 2021 में 50ः हो गया, जबकि एफएंडओ सेगमेंट में प्रति यूजर औसतन 327 ट्रेड देखे गए। 70ः मिलेनियल्स यूजसZ ने प्रति यूजसZ औसतन 8 आईपीओ के लिए आवेदन किया।

 

जोखिम लेने की उच्‍च क्षमता

पैसिव इनवेस्टमेंट (निष्क्रिय निवेश), मिलेनियल्स की पसंद बना रहा, क्योंकि म्यूचुअल फंड में प्रति यूजर औसत निवेश राशि में 35ः की वृद्धि देखी गई। इस सेगमेंट के लिए एसेट अंडर मैनेजमेंट (प्रबंधन के तहत कुल संपत्ति) में पिछले साल दोगुने से अधिक 109ः की वृद्धि हुई। हालांकि, स्मॉल कैप फंड्स को लेकर बढ़ी प्राथमकिता उच्च जोखिम लेने की क्षमता को दशाZता है। 2021 में 42ः मिलेनियल्स ने स्मॉल-कैप फंडों में निवेश किया, जो 2020 में 31ः था। पेटीएम मनी पर 10 सबसे अधिक कारोबार वाले म्यूचुअल फंड्स में 3 स्मॉल-कैप श्रेणी के थे, जबकि 1 मिड-कैप श्रेणी के थे।

‘टैक्‍स बचाओ’

म्यूचुअल फंड एसआईपी के रुझान मिलेनियल निवेशकों के बीच बढ़े हुए अनुशासन को दशाZते हैं। 2021 में प्रति यूजर एसआईपी की औसत संख्या में 30% और औसत एसआईपी मूल्य में 16%की वृद्धि हुई। ईएलएसएस फंड्स के लिए भी इसी तरह की प्राथमिकता देखी गई और इन फंड्स में औसत निवेश में 23% की वृद्धि हुई। ईएलएसएस फंड में निवेश करने वाले मिलेनियल्स का अनुपात भी 2020 में 26% से बढ़कर 31%हो गया। यह देखते हुए कि ये फंड 3 साल की लॉक-इन अवधि के साथ कर बचत के उपकरण हैं, उपरोक्त संख्या निवेश के प्रति परिपक्‍व दृष्टिकोण की ओर इशारा करती है।

मिलेनियल्स अब लंबी अवधि के बारे में सोच रहे हैं

यह भी ध्यान देने योग्य है कि 2021 में राष्ट्रीय पेंशन योजना में निवेश करने वाले मिलेनियल्स की संख्या दोगुनी से अधिक हो गई। एनपीएस के लिए प्रबंधन के तहत कुल संपत्ति में भी पेटीएम मनी प्लेटफॉमZ के माध्यम से किए गए निवेश के साथ 389ः की वृद्धि हुई। एनपीएस कर लाभ के विकल्प के साथ एक बेहद दीघZकालिक निवेश है और मिलेनियल्स के बीच ऐसे निवेशों के लिए प्राथमिकता निवेश के प्रति उनकी दीघZकालिक प्रतिबद्धता को इंगित करती है। पेटीएम मनी के सीईओ वरुण श्रीधर ने कहा, “ पिछले एक साल में, हमने देखा कि मिलेनियल निवेशक परिपक्‍व हो गए हैं क्योंकि उन्होंने अपने Potfolio में विविधता लाने और लंबी अवधि के लिए निवेश की तरफ देखना शुरू कर दिया है। इंट्राडे ट्रेडिंग और एफएंडओ में उच्च भागीदारी ने भी बढ़ते आत्मविश्वास का संकेत दिया। इन निवेशकों को वित्तीय अवधारणाओं को सीखने में काफी समय बिताते हुए देखना बहुत उत्साहजनक था। ये रुझान भारत के युवा निवेशकों के लिए शुभ संकेत हैं और हम भविष्य को लेकर उत्साहित हैं”।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account