प्रमुख सुर्खियाँ :

साहित्य

नई दिल्ली। मधुबनी लिटरेचर फेस्टिवल, सेंटर फॉर स्टडीज ऑफ ट्रेडिशन एंड सिस्टम, दिल्ली द्वारा आयोजित किया जाने वाला एक प्रमुख कार्यक्रम है। वर्ष 2018, 2019 और 2020 में मिथिला (उत्तरी बिहार) की भूमि पर लगातार तीन साहित्य उत्सवों का सफलता पूर्वक आयोजन किया जा चुका है। लिटरेचर फेस्टिवल आयोजित करने के इसी क्रम को जारी
Complete Reading

चंडीगढ़। हिमाचल प्रदेश सूचना एंव जनसंपर्क विभाग के उप निदेशक और वरिष्ठ साहित्यकार गुरमीत बेदी ने पत्रकार-लेखिका दीप्ति अंगरीश की पहली कविता संग्रह ‘एडल्ट चुस्कियां’ की सराहना की। हिमाचल भवन में लेखिका से मुलाकात के दौरान गुरमीत बेदी ने कहा कि दीप्ति की रचनाओं में झरनों जैसा आंतरिक संगीत भी है और नदियों जैसी रवानगी
Complete Reading

  भोपाल। बीते डेढ़ दशक तक पत्रकारिता में सक्रिय दीप्ति अंगरीश अब अपनी कविता संग्रह लेकर आई है। लव, प्रेम, स्नेह, इश्क जो भी कह लीजिए। चीजें एक हैं, लेकिन उम्र के साथ भाव बदलते हैं। इन्हीं भावों को लेकर पत्रकार दीप्ति अंगरीश ने अपनी 74 कविताओं को इस पुस्तक में संजोया है। पुस्तक का
Complete Reading

नई दिल्ली। जानकी नवमी के अवसर पर सेन्टर फॉर स्टडीज ऑफ ट्रेडिशन एंड सिस्टम,दिल्ली के तत्वावधान में मधुबनी लिट्रेचर फेस्टिवल ने मसि इंक के सहयोग से जानकी को समर्पित कई वर्चुअल सत्रों का आयोजन अपने फेसबुक पेज के माध्यम से किया। कार्यक्रम के पहले दिन माँ जानकी मंदिर, जनकपुर से लाइव प्रसारण किया गया गया
Complete Reading

सिलीगुड़ी। सिलीगुड़ी के सुरताराम नकीपुरिया सभागार में आयोजित पांचजन्य संवाद में वक्ताओं ने बंगाल की ज्ञान परम्परा से गुंडा राज तक के इतिहास का जिक्र करते हुए चिंता जतायी। कार्यक्रम में प्रमुख वक्ता के रूप में सम्बोधन देते हुए पांचजन्य के सम्पादक हितेश शंकर (Hitesh Shankar) ने कहा की भद्रजनों का बंगाल कैसे वामपंथ शासन
Complete Reading

नई दिल्ली। आंदोलन के बारे में आप क्या मारपीट, झगड़ा, हत्याएं….समझते हैं। तो आप सरासल गलत हैं। आंदोलन बिना बोले ही हो सकता है। हिंसा नहीं अहिंसा से होता है Aandolan। Aandolan विरोध और विवेक जब तक रहें साथ हिंसक नहीं होंगे हाथ इच्छाएं लक्ष्य पर अड़ी रहेंगी बिन भटके खड़ी रहेंगी आतंक नहीं आंदोलन
Complete Reading

नई दिल्ली। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि प्रख्यात फोटोग्राफर और चित्रकार पद्मश्री वीरेंद्र प्रभाकर सरकार व्यक्तित्व के धनी एवं अपने क्षेत्र के पारंगत व्यक्ति थे। उन्होंने भारत में आजादी के समय से अपने करियर की शुरुआत करते हुए सारी उपलब्धियां हासिल की। फोटो पत्रकारिता जैसे रचनात्मक क्षेत्र में अपने हुनर की खुशबू बिखेरते
Complete Reading

नई दिल्ली। घर क्या होता है? कभी इस पर गौर किया है? बहुत तो मानते हैं चार दीवारों का मकान। हम मानते ये ईंट-दीवारों से नहीं। वहां रहने वालों से बनता है। झुग्गी भी तो आंगन है। ये तो रहने वालों के साथ ही बनता है। कुछ तो कोठी में रहते हैं, पर अपनों से
Complete Reading

महिषी (सहरसा)। समाज और संस्कृति के प्रति अपनी प्रतिबद्धता को लेकर सेंटर फाॅर स्टडीज ऑफ ट्रेडिशन एंड सिस्टम्स, नई दिल्ली 27 दिसंबर को ऐतिहासिक शक्तिपीठ महिषी के मंडन धाम में मधुबनी लिटरेचर फेस्टिवल का आयोजन कर रहा है। आयोजक की ओर से कहा गया है कि कोरोना के कारण साल हम तीन दिवसीय आयोजन एक
Complete Reading

नई दिल्ली।  नोबेल शांति पुरस्‍कार से सम्‍मानित जानेमाने बाल अधिकार कार्यकर्ता श्री कैलाश सत्‍यार्थी की पुस्‍तक ‘‘कोविड-19: सभ्‍यता का संकट और समाधान’’ का लोकार्पण भारत के पूर्व मुख्‍य न्‍यायाधीश न्‍यायमूर्ति श्री दीपक मिश्रा ने किया। राज्‍यसभा के उपसभापति श्री हरिवंश के विशिष्‍ट आतिथ्‍य में इस समारोह का आयोजन किया गया। प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित इस
Complete Reading

Create Account



Log In Your Account