41.16 लाख बचत बैंक खातों के बंद होने एसीबीआई ने दिया स्पष्टीकरण

नई दिल्ली। समाचार-पत्रों में भारतीय स्टेट बैंक द्वारा न्यूनतम शेष राशि शुल्क को कम किये जाने संबंधी छपी खबरों में, यह भी बताया गया था कि औसत मासिक बैलेंस (एएमबी) आवश्यक किये जाने के बाद, भारतीय स्टेट बैंक ने 41.16 लाख खाते बंद किये। बैंक यह स्पष्ट करना चाहेगा कि ये खाते स्वयं की प्रेरणा से बंद नहीं किये गये हैं।
भारतीय स्टेट बैंक के पास कुल 41 करोड़ बचत बैंक खाते हैं। चालू वित्त वर्ष के दौरान, 2.10 करोड़ बचत बैंक खाते खोले गये हैं, जिनमें से 1.10 करोड़ खाते प्रधानमंत्री जन-धन योजना के खाते हैं, जो औसत मासिक न्यूनतम राशि की आवश्यकता से मुक्त हैं।

अप्रैल 2017 में भारतीय स्टेट बैंक के सहायक बैंकों का एसबीआई में विलय के चलते, जिन ग्राहकों के एसबीआई और इसके अलग-अलग सहायक बैंकों में कई खाते थे, इस वर्ष के दौरान बंद किये गये खातों की संख्या अपेक्षतया अधिक हो गयी। जो ग्राहक अपने खातों में औसत मासिक बैलेंस बनाये रख पाने में असमर्थ हैं, उनके लिए यह विकल्प है कि वे अपने रेगुलर बचत बैंक खातों को निःशुल्क रूप से बीएसबीडी खातों में कन्वर्ट कर सकते हैं। 01.04.2018 से, औसत मासिक बैलेंस न रखने पर लिया जाने वाला शुल्क 75 प्रतिशत कम कर दिया गया है, जिसे बैंक के ग्राहकों द्वारा काफी सराहा गया है।

 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account