नारियल के बुरादे पर खीरे की खेती

राजस्थान। राजस्थान की बंजर भूमि ने जब एक किसान का खेती में साथ नहीं दिया तो उसने जमीन के बजाय नारियल के बुरादे पर ही खीरे की खेती करने की ठानी और अब वह इससे प्रति माह औसतन सवा लाख रुपये कमा रहा है। झीलों के शहर उदयपुर से सटे महाराजा की खेड़ा गांव में एक किसान ने अपनी बंजर जमीन की सफाई के बाद भी सब्जियों की खेती में सफल नहीं हुआ तो उसने बाहर की मिट्टी अपनी जमीन में डाली और उस पर सब्जियों की खेती की शुरुआत की लेकिन कीड़ों का ऐसा प्रकोप हुआ कि पूरी फसल बर्बाद हो गयी । बाद में उसे पता चला कि इस जमीन पर खेती नहीं की जा सकती है। Read This – ओखी चक्रवात: सेनाओंं ने बचाये 400 लोग खेती में भारी घाटा होने पर किसान नंदलाल डांगी ने महाराणा प्रताप कृषि विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों की सलाह ली और उसके बाद उसने पॉली हाउस में खीरे की वैज्ञानिक खेती की शुरुआत की। पॉली हाउस के अंदर जमीन से ऊपर क्यारी बनायी गयी और उसमें नारियल के बाहरी आवरण के बुरादे को पॉलीथीन के बैग में डालकर चाइनीज खीरे की खेती शुरु की गयी । कम पढे लिखे श्री डांगी ने बताया कि दो एकड़ जमीन पर उन्होंने तीन पॉलीहाउस का निर्माण कराया जिस पर नारियल के बैग में खीरे के 9500 बीज बोये गये। प्रत्येक बैग में करीब डेढ किलो नारियल का बुरादा डाला गया और उसमें खीरे के बीज को अंकुरित कराया गया । Like Us :

 

अनंत अमित

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account