प्रमुख सुर्खियाँ :

Comedy & Music, हंसा कर खुशी मिलती है पर सुकून संगीत में: सुगंधा मिश्रा

नई दिल्ली। Music से सुकुन मिलता है। इसके लिए संगीत की गहराइयों में डूबना पड़ता है। काॅमेडी कर दर्शकों को हंसा कर खुशी मिलती है लेकिन खुद को सुकून Music में मिलता है । यह कहना है कपिल शर्मा शो, काॅमेडी सर्कस, काॅमेडी क्लासिक, लाॅफ्टर चैंपियन और लाॅफ्टर के फटके आदि अनेक काॅमेडी शोज में हंसाने वाली सुगंधा मिश्रा का।

Music, इंदौर घराने से जुड़ी है चौथी पीढ़ी

सुगंधा मिश्रा मूल रूप से जालंधर पंजाब से हैं। जालंधर व हिसार दूरदर्शन केंद्रों के निदेशक रह चुके संतोष मिश्रा की बेटी है। सुगंधा ने बताया कि जब पापा हिसार दूरदर्शन के निदेशक थे तब वह हिसार भी कुछ दिनों के लिए आई थीं। जालंधर के एपी जे काॅलेज से एम ए गायन किया। सुगंधा का परिवार संगीतमय परिवार है और चौथी पीढ़ी है जो इंदौर घराने से जुड़ी हुई है। जालंधर में बिग एफ एम में रेडियो जाॅकी का काम भी किया कुछ समय।

Q – किससे प्रेरणा मिली Music में आने की ?

A – पूरा परिवार ही संगीत से जुड़ा हुआ है लेकिन चैथी कक्षा में थी जब दादा शंकरलाल मिश्रा जी ने सिखाना शुरू कर दिया था ।

Q -काॅलेज में क्या योगदान रहा ?

A – युवा समारोहों में राष्ट्रीय स्तर तक पहुंची और पुरस्कार प्राप्त किये ।कपिल शर्मा और भारती भी गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी की टीम में होते थे ।

Q – और क्या क्या किया मंच पर ?

A – थियेटर, मिमिक्री । एक बार में पचास पचास आवाजें निकाल लेती थी । शास्त्रीय , पाश्चात्य गायन और सबमें पुरस्कार ।

Q -फिर काॅमेडी में कैसे ?

A – सन् 2009 में युवा समारोह की वजह से ही अवसर मिला । ऑफर आया जब प्रतिभा खोज के लिए बुलाया मुम्बई से । लाॅफ्टर चैलेंज के लिए । कहा कि पसंद न आए तो एक एपीसोड के बाद निकल जाना ।

Sugandha Mishra in Kapil Sharma Show

Q – फिर क्या रहा ?

A – आपके सामने है मेरी यात्रा । वहां मैंने म्यूजिकल काॅमेडी बनाई बिना किसी स्क्रिप्ट के । ऐसे मैं सेमीफाइनल तक पहुंच गयी । शत्रुघ्न सिन्हा जी आए थे । इस तरह काॅमेडी में मेरी पहचान बन गयी । वैसे सा रे ग म प में भी गयी और सेकेंड रनर अप रही । वैसे भी यदि पंजाब में गर भः रहती तो एक संगीत प्राध्यापिका ही बन कर रह जाती । वह मेरी मंजिल नहीं थी ।

Q – Music का मौका नहीं मिला?

A – दो साल बहुत संघर्ष किया लेकिन एक दो मूवीज में मौका मिला भी तो गाने हिट नहीं हुए ।

Q – किन किन काॅमेडी शोज में आईं ?

A – कपिल शर्मा के शो में लगभग डेढ़ साल । काॅमेडी सर्कस, काॅमेडी क्लासिज , लाॅफ्टर चैंपियन , लाॅफ्टर के तड़के आदि । फिर तो काॅमेडी मे गाड़ी चल निकली । मुम्बई में ही ठिकाना हो गया और विदेशों में भी लाइव शोज मिलने लगे । मम्मी पापा भी साथ देते रहे ।

Q – संगीत की दुनिया से काॅमेडी में आ जाने से कैसा लगा ?

A – लक्ष्य तो आज भी Music और गायन ही है । एक म्यूजिक एप खोलना चाहती हूं । दर्शक जब मेरी काॅमेडी पर हंसते हैं तो खुशी होती है । हो सकता है यह कला मुझमें छिपी हो जिसे मुम्बई ने पहचान लिया । पर सुकून संगीत में ही मिलता है ।

Q – कौन पसंदीदा गायिका ?

A – लता जी तो हैं ही । उनके अंदाज को फाॅलो करके दिखाया । All Time फेवरिट किशोर दा । आशा भौंसले । वे गजल भी उतनी ही खूबसूरती से गाती हैं ।

Q – काॅमेडी मे कौन पसंद ?

A – श्रीदेवी । उतनी ही बढ़िया काॅमेडी करती हैं जितना भावपूर्ण अभिनय ।

Q – कितने पुरस्कार मिले हैं?

A – युवा समारोहों में राष्ट्रीय पुरस्कार तक । हरबल्लभ संगीत सम्मेलन में गाना भी किसी पुरस्कार से कम नहीं । पंडित रवि शंकर जी से जूनियर आर्टिस्ट पुरस्कार । प्राचीन कला केंद्र और रेडियो मिर्ची से भी ।

Q – अपने आप को क्या कहना पसंद करोगी -गायिका या काॅमेडियन ?

A – एक एंटरटेनर । फुल एंटरटेनर । Music, अभिनय, गायन और काॅमेडी सब कर सकती
है और कर रही है ।

 

Interview by Senior Journalist Kamlesh Bhartiya

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account