प्रमुख सुर्खियाँ :

वसूली के लिए जब्त होगा कांग्रेस दफ्तर का सामान

नई दिल्ली। दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में रखे सामानों को जब्त करने की कवायद शुरू हुई है। एक बिल्डर की गुहार पर तीस हजारी कोर्ट के आदेश पर यह कार्रवाई शुरू हुई है। बिल्डर का दावा है कि दफ्तर का निर्माण करवाने के बाद पार्टी ने बकाया धनराशि का भुगतान नहीं किया। कोर्ट के आदेश पर कुर्की करने पहुंची टीम को कार्यालय पर ताला लगा मिला। जिस पर टीम खाली हाथ वापस चली गई। कांग्रेसियों ने कार्यालय के दोनों गेट पर ताले जड़ दिए थे। जब टीम पहुंची तो तमाम कांग्रेसी कार्यकर्ता दफ्तर के बाहर जुट गए। बिल्डर के वकील विनय गुप्ता ने कहा,”जब हम कोर्ट स्टाफ और पुलिस के साथ दफ्तर पर पहुंचे तो दफ्तर पर ताला लगा मिला। जिससे कुर्की की कार्रवाई नहीं हो सकी।”
दरअसल राउज एवेन्यू स्थित दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कार्यालय के भवन निर्माण का ठेका विनोद गोयल व उनके भाई को मिला था। उनकी कंस्ट्रक्शन कंपनी ने 2003-4 के बीच भवन बनाकर पार्टी के हवाले कर दिया था। पार्टी ने इसका टेंडर 2001 में निकाला था। गोयल के मुताबिक उन्हें निर्माण के पूरे पैसे मिले ही नहीं। पार्टी ने सिर्फ 38 लाख चेक से भुगतान किए, जबकि दूसरी किश्त में 57 लाख रुपये का भुगतान ही नहीं किया। जिसके बाद दिल्ली हाई कोर्ट में गुहार लगाई। दिल्ली हाईकोर्ट ने मामला तीस हजारी कोर्ट को भेज दिया।करीब 13 साल चली सुनवाई के बाद तीस हजारी कोर्ट ने बीते छह जनवरी 2018 को दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी को ब्याज सहित पूरे बकाए के भुगतान का आदेश दिया। बिल्डर के मुताबिक पार्टी पर उसका कुल 94,82,805 रुपये बकाया हैं।

 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account