कतरन से कमाल के कपड़े बनाने वाले दिल्ली के फैशन हाउस की कहानी

नई दिल्ली। क्या आपने कभी सोचा है कि फैशन और नए-नए कपड़ों का शौक भी पर्यावरण के लिए एक खतरा हो सकता है। हर दिन टेक्सटाइल फैक्ट्रीज, गारमेंट मैन्युफैक्चरिंग यूनिट्स और दर्जियों की दुकानों पर बहुत सारा कपड़ा व्यर्थ चला जाता है। रीयूज़ और रीसाईकल के इस ज़माने में क्या इस व्यर्थ कपड़े का भी उपयोग किया जा सकता है? दिल्ली शहर की कृति तुला ने जब सस्टेनेबल फैशन के बारे में सुना तब उन्हें आईडिया आया एक इको-फ्रेंडली फैशन हाउस शुरू करने का जिसका नाम है, डूडलएज।

इस फैशन हाउस की विशेषता यह है कि यहाँ बनाई गई हर ड्रेस कतरन और व्यर्थ कपड़ों से बनी है। कृति बताती हैं कि टेक्सटाइल फैक्ट्री में रोज़ बहुत सारा कपड़ा व्यर्थ चला जाता है और सिलाई के दौरान भी रोज़ बहुत कतरन बच जाती है। इसी कतरन को रीयूज़ करके डूडलएज में नए-नए परिधानों को डिज़ाइन किया जाता है।

 

देखिए  13-14 जनवरी को रात 8 बजे, सिर्फ History TV18 पर

 

इतना ही नहीं नए कपड़े डिज़ाइन करते वक़्त जो कपड़ा बच जाता है उसे बैग और पेपर इत्यादि बनाने में प्रयोग किया जाता है। यहाँ बने कपड़ों की सबसे बड़ी ख़ासियत यह है कि अलग-अलग कतरनों से बने होने के कारण हर एक ड्रेस अनोखी है। पर्यावरण की रक्षा की ओर एक फैशन हाउस की ओर से उठाया गया यह कदम वाकई सराहनीय है।

OMG! Yeh Mera India के अगले एपिसोड में देखिए कि कैसे कृति और उनकी टीम व्यर्थ कपड़ों को सुन्दर परिधानों में बदलकर पूरे विश्व में ज़ोर पकड़ रहे सस्टेनेबल फैशन के अभियान को आगे बढ़ा रहे हैं।

 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account