प्रमुख सुर्खियाँ :

भुज से एक शर्मनाक खबर

नई दिल्ली। भुज कभी भूकंप के कारण चर्चित रहा था लेकिन चर्चित अब भी हो रहा है लेकिन एक खबर के कारण जो भूकंप लाने जैसी ही है । वहां एक संस्थान है -सहजानंद गर्ल्ज इंस्टीट्यूट  जिसमें यह भूचाल लाने जैसी वारदात हुई है । किस जमाने में कैसी बात ? सुनी नहीं कभी । साठ छात्राओं की माहवारी की जांच के लिए बाथरूम में निर्वस्त्र की गयीं और यदि किसी को बताया तो काॅलेज से बाहर कर देने की चेतावनी । स्वामीनारायण मंदिर द्वारा इसका संचालन किया जा रहा है और इनका यह विश्वास या परंपरा है कि माहवारी आने वाली छात्राओं का प्रवास अलग और खान पान अलग रखा जायेगा लेकिन माहवारी की जांच ऐसी निर्लज्जता से की जायेगी यह कहां लिखा है ? बेशक चार लोगों पर केस दर्ज कर लिया गया है लेकिन भविष्य में ऐसा नहीं होगा यह कहां स्पष्ट किया गया ?

छात्राओं पर कितनी कितनी पाबंदियां सामने आती हैं । कभी जींस नहीं पहन कर आ सकतीं तो कभी मोबाइल बैन । कभी खेल की ड्रेस भी पहनने पर पाबंदी । सानिया मिर्ज़ा का इसी के चलते विरोध किया गया था और उसका जवाब था कि मैं बुर्का पहन कर टेनिस नहीं खेल सकती । यही माकूल जवाब था । इससे बेहतर क्या जवाब हो सकता था ? कंगना रानौत हिमाचल से आई हैं और फिल्मी दुनिया में महिलाओं के स्वर को ऊंचा कर रही हैं जैसे स्वरा भास्कर करती आ रही हैं ।

खेल हो या फिल्म या फिर आम जनजीवन सभी जगह नारी को पाबंदियों की चुनौती से लड़ना पड़ता है । यह कोई नयी जंग नहीं । सदियों से यह जंग चल रही है । कभी शास्त्र और शस्त्र नहीं सीख सकती थी नारी । महारानी लक्ष्मीबाई ने शस्त्र चलाने भी सीखे और अंग्रेजों को शस्त्र चला कर भी दिखाए । कल्पना चावला ने अंतरिक्ष पर जाकर दिखाया तो किरण बेदी ने पुलिस विभाग में राह खोली । दिल्ली में क्रेन बेदी बन कर बता दिया कि यह काम बखूबी किया जा सकता है । फिर तो राह खुल गयी । खुलती चली गयी ।

इंदिरा गांधी को सुंदर व गूंगी गुड़िया मान कर कांग्रेस वालों ने प्रधानमंत्री बनाया यह सोचकर की कठपुतली की तरह रखेंगे लेकिन उसी को अटल बिहारी वाजपेयी ने दुर्गा तक कहा बांगला देश की जीत के बाद । छोटे बड़े कितने उदाहरण दिए जा सकते हैं । आज फिल्मी दुनिया से लेकर खेल तक सब जगह नारी अपनी शर्तों पर जी रही है । फिर यह कैसे सोच लिया कि वह काॅलेज से निकाले जाने से डर जायेगी । छात्राओं ने विद्रोह किया और मामला उजागर कर दिया ।


-कमलेश भारतीय,  वरिष्ठ पत्रकार 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account