गुड लाइफस्टाल, गुड हार्ट 

वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन के अनुसार एक साल में हृदय रोग के कारण लगभग 17.5 मिलियन लोग मर जाते हैं। इनमें से अनुमानतः 6.7 मिलियन लोग स्ट्रोक और कोरोनरी हृदय रोग के कारण 7.4 मिलियन लोगों मरते हैं।
हर साल, 29 सितंबर को विश्व हृदय दिवस के रूप में मनाया जाता है, ताकि हृदय की कई समस्याओं के बारे में जागरूकता फैल सके और हृदय की देखभाल संबंधी जानकारी मिल सके। ऐसे समय में जब जीवन शैली से जुड़े रोग बढ़ रहे हैं, जोखिम वाले कारकों को समझना और उन्हें विशेष रूप से उन्मूलन करने के लिए दिशा में काम करना महत्वपूर्ण हो जाता है, विशेषकर तब जब किसी का हृदय रोग संबंधी पारिवारिक इतिहास है। सुश्री अंजली मल्होत्रा, मुख्य ग्राहक विपणन और डिजिटल अधिकारी अवीवा लाइफ इंश्योरेंस द्वारा व्यस्त जीवन में हृदय की समस्याओं को रोकने के सरल समाधान बता रही हैं।

नियमित करें व्यायाम
दिल को स्वस्थ रखने के लिए रोजाना व्यायाम करना आवश्यक है। यदि व्यायाम करने का समय नहीं मिले, तो दिनचर्या में शारीरिक गतिविधि वाले छोटे छोटे बदलाव लाएं। मसलन एलेवेटर के बदले सीढ़ियों से चढ़ना, पार्किंग स्थल के अंतिम भाग में पार्किंग करना और अपने दोपहर भोजन के समय में से थोड़ी देर के लिए कार्यालय से ब्रेक लेकर पैदल चलना आदि। इसके अलावा कुछ योग आसन जैसे वीरभद्रासन, ताड़ासन, उत्कटासन, भुजंगासन, वृक्षासन भी दिल की समस्याओं को रोकने में मदद करते हैं।

हेल्दी फूड
सेहतमंद हृदय के लिए खाने में हरी पत्तेदार सब्जियों का सेवन करें, खराब कोलेस्ट्रॉल से बचने के लिए लाल मीट अपने भोजन से हटाएं चीनी और गैस युक्त पेय से परहेज करें, कम से कम तेल का सेवन करें और नमक कम खाएं। बता दें कि बहुत ज्यादा सोडियम शरीर में अतिरिक्त तरल पदार्थ पैदा कर सकता है, जो आपके दिल पर अतिरिक्त दबाव डालता है।

शरीर का वजन
अत्यधिक शरीर का वजन दिल के लिए खतरनाक है। वजन पर नजर रखें क्योंकि यह उच्च कोलेस्ट्रॉल की संभावना को बढ़ाता है, जिससे मधुमेह, धमनी रोग का खतरा और रक्तचाप हो सकता है। बीएमआई (बॉडी मास इंडेक्स) पर भी नजर रखें और इसे उचित स्तर तक बनाए रखें।

धूम्रपान और शराब पर नियंत्रण रखें
धूम्रपान और शराब के सेवन से हृदय रोग होने का जोखिम बढ़ता है। इन आदतों को रक्तचाप बढ़ाने के लिए जाना जाता है, जिसके कारण दिल की धड़कन अनियमित होती है और स्ट्रोक्स होते हैं। यही नहीं यह दिल की सामान्य क्रियाकलाप में व्यवधान पैदा करता है।

तनाव स्तर की जांच करें
तनाव दिल की समस्याओं का सबसे बड़ा कारण है। तनाव को दूर रखने का प्रयास करें। काम के अलावा अन्य गतिविधियों की तलाश करें जो तनाव के स्तर को नीचे रखने में मदद करें। एक शौक या एक सकारात्मक आत्म-चर्चा करें, संगीत सुनें या अच्छी किताब पढ़ें या ध्यान करें। इन तकनीकों ने तनाव कम करने और काम और जीवन के प्रति सकारात्मक दृष्टिकोण विकसित करने में मदद की है।

इसके अलावा इस वर्ल्ड हार्ट डे पर अपना व अपनों का हृदय सेहतमंद बनाने की प्रतिज्ञा लें, जिसमें अवीवा हार्ट केयर बीमा पॉलिसी की खरीदारी हृदय को सुरक्षित रखेगी।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account