प्रमुख सुर्खियाँ :

Indus Health Plus ने कोविड जीनोमिक्स टेस्ट ‘कोविडनावाइज’ लॉन्च किया

नई दिल्ली। ‘इंडस हेल्थ प्लस’ ने कोविड-19 की पूर्ववृत्ति (प्रिडिस्‍पोजीशन) जानने के लिए क्रांतिकारी जीनोमिक्स टेस्ट ‘कोविडनावाइज’ को लॉन्च किया है। यह टेस्ट तीन श्रेणियों के तहत 18 मानकों के बारे में आनुवांशिक जोखिमों की जानकारी देगा। इन तीन श्रेणियों में कोविड-19 का संदेह और गंभीरता, पोषण और कोविड-19, कोविड-19 की सह-रुग्णताएं शामिल हैं। इस महामारी के शुरू होने के बाद, इसके विभिन्न पहलुओं को समझने के लिए दुनियाभर में विभिन्न शोध अध्ययन किए जा रहे हैं। वैज्ञानिक इस संक्रमण में आनुवंशिक कारकों की भूमिका को स्पष्ट करते हुए कुछ दिनों के अंतराल पर नए निष्कर्षों के साथ सामने आ रहे हैं। हालांकि अभी भी बहुत कुछ समझना बाकी है, लेकिन ऐसे अध्ययन मौजूद हैं जो विभिन्न जेनेटिक पॉलीमॉफिज्‍म और कोविड-19 संबंधित मापदंडों के जोखिम के बीच एक जुड़ाव दिखाते हैं। इस नवीनतम उपलब्ध ज्ञान के आधार पर, इंडस हेल्थ प्लस ने ‘कोविडनावाइज’ टेस्ट शुरू किया है।

इंडस हेल्थ प्लस के ज्‍वाइंट मैनेजिंग डायरेक्‍टर श्री अमोल नाइकवाडी ने कहा, ” कोविड के दौर में यह जरूरी है कि लोग रोकथाम के महत्व को समझें और उचित दिशानिर्देशों का पालन करें, क्योंकि कोरोना से हर किसी के संक्रमित होने का खतरा है। हालांकि, संक्रमण का प्रभाव हर व्यक्ति में उनके आनुवंशिक बनावट या गठन के आधार पर अलग हो सकता है। इसलिए आनुवंशिकी के क्षेत्र में अपनी विशेषज्ञता के साथ हम लोगों का भविष्य स्वस्थ बनाने के प्रयास में ‘कोविडनावाइज’ जैसा अनूठा मंच प्रदान कर रहे हैं। यह कोविड-19 की पूर्वधारणा (प्रिडिस्‍पोजीशन) का विश्लेषण करता है, बेहतर प्रतिरक्षा के लिए पोषण और आनुवंशिकी के आधार पर संक्रमण की गंभीरता को जानने में भी मदद करता है। इन जेनेटिक प्रिडिपोजीशन और जानकारियों को जानने से व्यक्ति को इस संक्रमण से बेहतर बचाव करने में मदद मिलती है।”

भले ही SARS-Cov-2 वायरस कोविड-19 से संक्रमित होने की संभावना का निर्धारण करने वाला सबसे महत्वपूर्ण कारक बना हुआ है, पर अन्य जोखिम कारक संक्रमण की प्रतिक्रिया को प्रभावित कर सकते हैं। इन जोखिम कारकों में कमजोर इम्यूनिटी, मौजूदा स्वास्थ्य की स्थिति (पहले से कोई बीमारी होना), वृद्धावस्था और जेंडर (पुरुषों में महिलाओं की तुलना में अतिसंवेदनशील होना) शामिल हैं। इसके अलावा आनुवंशिक वैरिएंट कोविड -19 के प्रति प्रतिरक्षा प्रणाली को संशोधित करके प्रभावित कर सकता है जो किसी व्यक्ति को दूसरों की तुलना में कम या अधिक संवेदनशील बना सकता है। इसलिए कोविडनावाइज टेस्ट आनुवंशिक मेकअप को डिकोड करने में मदद करेगा और व्यक्ति को कोविड-19 से संबंधित गंभीर जटिलताओं के अलावा रेस्पिरेटरी फेलियर और आनुवंशिक संवेदनशीलता व जोखिम के बारे में सूचित करने में मदद करेगा। यह विभिन्न पोषक तत्वों की कमी के आनुवंशिक जोखिम को समझने में मदद करेगा, जो संक्रमण से लड़ने के लिए अच्छे मेटाबॉलिज्‍म के लिए प्रतिरक्षा बूस्टर और उत्प्रेरक हैं। यह डायबिटीज, मोटापा, उच्च रक्तचाप आदि जैसे सह-रुग्‍णताओं के बारे में भी बताएगा, जो कोविड​​-19 संक्रमण की गंभीरता को बढ़ा सकते हैं।

‘कोविडनावाइज’ एक सलाइवा-आधारित व यूजर-फ्रेंडली जेनेटिक टेस्ट है, जो घर बैठेकराया जा सकता है। इंडस हेल्थ प्लस का पूरे देश में एक मजबूत नेटवर्क है जोकि उपभोक्ताओं के लिए डोर-टू-डोर सैंपल कलेक्शन सर्विस उपलब्ध कराता है। यह पैकेज किफायती मूल्य पर पूरे भारत में उपलब्ध है और इसमें सलाइवा सैंपल किट, रिपोर्ट और जेनेटिक काउंसलर द्वारा काउंसलिंग शामिल है। टेस्ट रिपोर्ट कॉम्‍प्रीहेंसिव एवं कंज्‍यूमर-फ्रेंडली हैं। टेस्टिंग और रिपोर्टिंग में अत्याधुनिक तकनीक और अंतर्राष्ट्रीय मानक शामिल हैं।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account