मेडट्रॉनिक ने भारत में सर्जरी के लिये लाॅन्च किया सोनीसिजन कर्व्‍ड जॉ कॉर्डलेस अल्ट्रासोनिक डिसेक्शन सिस्टम

नई दिल्ली।  मेडट्रॉनिक पीएलसी (NYSE: MDT) के पूर्ण स्वामित्व वाली अनुषंगी इंडिया मेडट्रॉनिक प्राइवेट लिमिटेड ने आज सोनीसिजन™ कर्व्‍ड जॉ कॉर्डलेस अल्ट्रासोनिक डिसेक्शन सिस्टम के लॉन्च की घोषणा की है। यह अगली जनरेशन का अल्ट्रासोनिक डिसेक्शन डिवाइस है, जो सर्जनों को ऑपरेटिंग रूम में उन्नत सटीकता के साथ सुविधा और सुरक्षा के संयुक्‍त लाभ देता है।

सोनीसिजन कर्व्‍ड जॉ कॉर्डलेस अल्ट्रासोनिक डिसेक्शन सिस्टम कोमल ऊत्तक की चीर-फाड़ के लिये है, जब ब्लीडिंग रोकने और न्यूनतम थर्मल इंजरी की अपेक्षा की जाती है। इस यंत्र का उपयोग जनरल, प्लास्टिक, पीडियाट्रिक, गायनेकोलॉजिक, यूरोलॉजिक, ऑर्थोपेडिक संरचनाओं (जैसे रीढ़ और ज्‍वॉइंट स्पेस) के एक्सपोजर के लिये इलेक्ट्रोसर्जरी, लेसर्स, स्टील स्कैल्पेल्स और अन्य खुली और एंडोस्कोपिक विधियों के अनुबद्ध या विकल्प के तौर पर किया जा सकता है। ऑपरेटिंग रूम में यह विधियाँ करते समय सुरक्षित और रोगी के शरीर में टाइट स्पेसेस तक पहुँचने की अच्छी सटीकता और विजिबिलिटी देने वाले ऑप्टिमल डिवाइस तक पहुंच सर्जनों के लिये महत्वपूर्ण है।

इंडिया मेडट्रॉनिक प्रा. लि. और मिनिमली इनवेसिव थेरैपीज ग्रुप एपीएसी के वाइस प्रेसिडेन्ट मदन कृष्णन ने कहा, ‘‘50 वर्षों से अधिक समय से हेल्‍थकेयर की सबसे बड़ी चुनौतियों से उभरना हमारे ऊर्जा उत्पादों के विकास के पीछे का बल रहा है। सोनीसिजन नये युग की टेक्नोलॉजी है, जो ऑपरेटिंग रूम में गतिशीलता को बढ़ाने और सर्जरी को सुरक्षित बनाने के लिये डिजाइन की गई है। मेडट्रॉनिक सर्जिकल इनोवेशन के क्षेत्र में चिकित्सकीय परिणामों को बेहतर बनाने के लिये स्मार्ट उत्पाद और विधियों के लिये समाधान विकसित करने हेतु प्रतिबद्ध है।’’

नया सोनीसिजन कर्व्‍ड जॉ अल्ट्रासोनिक डिसेक्शन सिस्टम एक कॉर्डलेस डिवाइस है, जो ऑपरेटिंग रूम में मूवमेन्ट, गति और सुरक्षा बढ़ाता है। इस यंत्र में ड्यूअल-मोड एनर्जी कंट्रोल के साथ एक सिंगल बटन है, जो मिनिमम और मैक्जिमम एनर्जी मोड्स तक पहुँच देता है, ताकि सर्जन की नजरें सर्जिकल फील्ड पर रहें और पतला, मुड़ा-हुआ जॉ टाइट स्पेसेस में पहुँच देता है। असेम्बल होने के बाद इलेक्ट्रिकल पावर बैटरी पैक से मिलती है, जिसे जनरेटर में अल्ट्रासोनिक एनर्जी में बदला जाता है। यह एनर्जी डिवाइस ब्लेड में जाती है, जिसका उपयोग वांछित चिकित्सा पूरी करने के लिये किया जाता है। यह सभी फीचर्स इसलिये हैं, ताकि सर्जन रोगी और की जा रही सर्जरी पर ध्यान दें।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account