मेघना मलिक : अम्मा के रोल ने मायानगरी में दिलाई पहचान

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। न आना इस देस लाडो की अम्मा का रोल निभा कर खूब वाहवाही लूटने वाली मेघना मलिक का कहना है
कि अम्मा के रोल ने उन्हें मायानगरी में पहचान दी और पांव जमा दिए । यह सीरियल साढे चार साल तक चला और इतना प्यार मिला दर्शकों का किघर घर मेरी पहचान बन गयी । यही नहीं इसी रोल से हरियाणवी बोली के रस की ओर ध्यान गया फिल्म निर्देशकों का । जिला सिरसा के जमाल गांव में यशपाल शर्मा की फिल्म दादा लखमी में फिर एक बार दादा लखमी की अम्मा का रोल निभा रही हैं मेघना मलिक । उनका कहना है कि इस रोल को निभाने में जितना मुझे रस आया , उससे कहीं ज्यादा रस दर्शकों को आया । इसलिए यह रोल जबरदस्त पाॅपुलर हुआ ।

मूल रूप से सोनीपत निवासी मेघना ने प्रारम्भिक शिक्षा होली चाइल्ड स्कूल व बाद में राई में प्राप्त की । फिर गीता विद्या मंदिर से ग्रेजुएशन और कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय से एम ए अंग्रेजी । इसके बाद पहुंची दिल्ली के एनएसडी में । तीन वर्ष का कोर्स कर वहीं रेपेटरी में प्रोफैशनल आर्टिस्ट हो गयीं ।
– एक्टिंग का शौक कब से ?
– बचपन से ही । स्कूल व काॅलेज में थियेटर किया करती । डांस भी करती थी । फिर ध्यान गया कि एक्टिंग ही चुन ली जाए तब एनएसडी गयी और सिलेक्ट भी हो गयी ।
– मां कमलेश मलिक लेखिका हैं । क्या उनका असर नहीं पडा ?
– बस । असर तो है । पर कागज पर नहीं , कैमरे के सामने । भाषा तो उन्हीं से सीखी ।
– क्या परिवार ने फिल्मी दुनिया में जाने का विरोध नहीं किया ?
– विरोध तो लडकों का भी होता है क्योंकि इसमें आर्थिक असुरक्षा रहती है । जो परिवार कला की समझ रखते हैं वे विरोध नहीं करते । 
– मुम्बई कब गयीं ?
– सन् 2000 में ।
– अम्मा से पहले क्या और किसमें अभिनय किया ?
-अस्तित्व , संसार , दहलीज । इसके अतिरिक्त झलक दिखला जा जैसे डांस रियल्टी शो में भाग लिया और जीता भी । कुकिंग में किचन चैम्पियनशिप जीती ।
– कुछ फिल्मों में भी आई हैं ?
– आमिर खान की फिल्म तारे जमीन पर , नसीरूद्दीन शाह के साथ यूं होता तो क्या होता , कुछ न कहो , जुबान और चलते चलते फिल्मों में अभिनय किया ।
– दादा लखमी में किस रोल में ?
– दादा लखमी की अम्मा के रोल में ।
– कोई नयी आने वाली फिल्म ?
– सन्नी द्योल के साथ पल पल दिल के पास फिल्म जुलाई में आएगी ।
– पसंदीदा एक्ट्रेस ?
– मेरिल स्ट्रिप । विदेशी कलाकार ।
– किस तरह का लहरोल करने का सपना है ?
– ऐसा कुछ नहीं । थियेटर भी करती हूं । इन दोनों थियेटर कुछ स्थगित है ।
– पुरस्कार तो बहुत मिले होंगे । मुख्य पौलहरस्कार बताइए ।
– सन् 2018 में श्रेष्ठ टेलीविजन एक्टर , सन् 2017 में इंडियन टेलीविजन अकेडमी अवार्ड , सन् 2016 स्वर्ण जयंयी हरियाणा गौरव पुरस्कार , दो बार श्रेष्ठ नेगेटिव रोल के लिए पुरस्कृत ।
– कमलेश भारतीय 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account