मोरपेन लैब्स का बेल्जियम की वसाल फार्मा से समझौता

नई दिल्ली। मोरपेन लैबोरेटरीज लिमिटेड ने भारत में 1000 करोड़ के प्रोबायोटिक्स मार्केट में अपनी स्थिति मजबूत करने के लिए बेल्जियम की वसाल फार्मा इंटरनेशनल से करार किया है। फार्मा क्षेत्र की दो बड़ी कंपनियों के बीच समझौते पर आधिकारिक रूप से हस्ताक्षर बेल्जियम के राजा और रानी की प्रभावशाली मौजूदगी में हुए, जो इन दिनों भारत की राजकीय यात्रा पर हैं।
यह समझौता भारतीय बाजार में खासतौर से गैस्ट्रोएंट्रोलॉजी सेगमेंट में मोरपेन के फॉर्म्युलेशन पोर्टफोलियो का विस्तार करेगा। प्रारंभिक तौर पर वितरण और मार्केटिंग के क्षेत्र में यह एक खास समझौता है। हालांकि इस समझौते के तहत अपने प्रोडक्ट्स की संपूर्ण रेंज के लिए विदेशी पार्टनर वसाल फार्मा भविष्य में दवाओं के विश्वस्तरीय निर्माण संयंत्र और रिसर्च एंड डिवेलपमेंट फैसिलिटी की स्थापना के लिए मोरपेन के साथ भारत में निवेश कर सकता है।
भारतीय बाजार में वसाल फार्मा की ओर से पेश किए गए 4 प्रमुख प्रोबायोटिक्स में बैसिलेक इंफेंटिस, बैसिलेक ओआरएस, बैसिलक फोर्ट और सिबालेक्स शामिल है। हर प्रॉडक्ट अपने आप में बेमिसाल है और इसमें इंटेलिकैप्स की पेंटेंट टेक्नॉलजी शामिल है। वसाल की यह पेंटेंट टेक्नॉलजी प्रोबायोटिक्स को पेट में नष्ट नहीं होने देती और आंतों में जीवित अणुओं को पहुंचा देता है, जहां यह इकट्ठे होकर खराब जीवाणुओं से लड़ते हैं।
अगले 5 सालों में ये 4 प्रॉडक्ट मिलकर मोरपेन लैब्स की टॉप लाइन में 100 करोड़ रुपये का योगदान करेंगे। प्रोबायोटिक्स का देश में करीब 1000 करोड़ का एथिकल प्रिस्क्रिप्शन का मार्केट है, जो 15 फीसदी सालाना की दर से बढ़ रहा है। मोरपेन इन प्रॉडक्ट्स की बिक्री केवल भारतीय बाजारों में ही नहीं करेगा, पर भविष्य में वसाल के लिए इन प्रॉडक्ट्स को दुनिया के दूसरे बाजारों में भी मुहैया कराएगा।
वसाल फार्मा के कार्यकारी अध्यक्ष एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी जेहन लिनआर्ट ने कहा, ‘भारत ने वसाल को विशाल अवसर मुहैया कराया है। मोरपैन लैबोरेटरीज के साथ समझौते पर हस्ताक्षर वसाल फार्मा की ग्लोबल रणनीति और अंतरराष्ट्रीय विकास को ध्यान में रखकर किया गया है। प्रोबायोटिक श्रेणी में हमारे पेटेंट किए गए प्रॉडक्ट्स की जरूरत काफी व्यापक तौर पर महसूस की जा रही है। मोरपैन हमारा सबसे अच्छा साझीदार है क्योंकि वह गैस्ट्रो सेगमेंट में काफी मजबूत हैं और प्रोबायोटिक और नए-नए आविष्कारों के बारे में उनकी समझ को काफी सराहा गया है। वसाल बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक को पेंटेंट की हुई, प्रयोग करने में आसान और प्रभावी प्रीबायोटिक्स मुहैया कराता है। इसके अतिरिक्त अपनी नई, अनोखी और बेहतरीन टेक्नॉलजी इंटेलिकैप्स से हम यह सुनिश्चित करते हैं कि जीवित जीवाणु आंतों तक पहेंचे और पेट में ही नष्ट न हो जाए। हम मोरपेन के साथ मिलकर भारत के लिए कई शानदार प्रॉडक्ट्स लाने की योजना बना रहे हैं।‘
मोरपेन लैबोरेटरीज लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक श्री सुशील सूरी ने कहा कि हम वसाल की टेक्नॉलजी और प्रोडक्ट्स को भारत में लाकर काफी प्रसन्न हैं। वसाल की विस्तृत रेंज और टेक्नोलॉजी हमारे प्रोबायोटिक्स पर फोकस के साथ मेल खाती है। आज भारत के टियर-2 और टियर-3 से संबंधित छोटे शहरों में लाइफस्टाइल, खाने की आदतों और पोषण की कमी से काफी समझौता किया जाता है। संक्रमण और रोग के दौरान आंतों की सेहत के साथ भी समझौता किया जाता है। इसलिए दोनों मुद्दों को ध्यान में रखते हुए मोरपैन ने प्रोबायोटिक्स पर विशेष फोकस रखने की योजना बनाई है। वसाल इंटेलिकैंप प्रोड्क्ट्स से मोरपेन लोगों के लिए (बच्चों से लेकर वयस्कों और कैंसर मरीजों) सबसे जरूरी आंतों की सेहत सुधारने की दिशा में काम कर रहा है।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account