मां में रब बसता है – शहनाज हुसैन

 एक दार्शनिक ने कहा है कि भगवान हर जगह नहीं पहुंच सकते, इसलिए उन्होंने मां बना दी। मातृत्व महिलाओं को भगवान की असीम कृपा से मिलता है। मां को विश्वभर में स्नेह से पूजा जाता है। मां और बच्चे के बीच अतुल्नीय रिश्ता होता है। पूरे भ्रमाण्ड में मां अन्य सभी प्राणियों के मुकाबले कहीं ज्यादा सबल, सशक्त, प्रबल व तेज होती है।

नई दिल्ली। एक महिला होने के नाते मुझे मां बनने का असीम आनंद अनुभव हुआ है। मां बच्चे के बीच के अदभुत रिश्ते के आनंद को पाने का मुझे सौभाग्य प्राप्त हुआ है। मेरी नजर में मातृत्व बिना किसी शर्त के मां और बच्चे के बीच असीम व निःस्वार्थ प्यार को दर्शाता है जिसमें कोई चाहत नहीं होती। भगवान की कृपा से मुझे 16 वर्ष की छोटी आयु में ही बेटी का वरदान मिला। मैं बेटी नीलोफर की मां बनी। कम उम्र में मां बनने के काफी फायदें भी होते हंै। हम दोनों मां-बेटी एक दोस्त की तरह बड़ी हुई तथा बहनों की तरह व्यवहार करती थी। अपने बच्चे के साथ-साथ बड़े होने का बहुत ही सुखद अनुभव होता है। मुझे उन दोनों में अपनी लंदन यात्रा आज भी रोमांचित लगती है जब हम दोनों दोस्त की तरह शापिंग करते हुए स्कूली सहलियों की तरह हंसी-मजाक करती थी। एक मां के रूप में मुझे एक पुत्र की मौत का सदमा भी लगा है। एक बच्चे के खो देने की अपूर्णीय क्षति को समझना या अहसान करना ही अत्यंत कठिन होता है। लेकिन अपने बेटे के खो देने के बाद मैंने अपने आपको प्रभु के चरणों में समर्पित कर दिया। भगवान की इच्छा के आगे समर्पण कर दिया जिससे मुझे आंतरिक शक्ति मिली और मैं शोक एवं आपदा के बावजूद पहले से मजबूत होकर उभरी।
मातृत्व दिवस पर मैं अपनी पूजनीय माता जो की भावभीनी श्रृदांजलि अर्पित करती हूं। वह हैदराबाद के शाही परिवार के निजाम के परिवार की राजकुमारी थी। मेरी माताश्री एक सौम्य, सुंदर, आकर्षक व शालीन महिला थी। उनका दूध और गुलाब जैसा साफ गोरा रंग रूप था। मेरी मां की प्रेरणा से ही मैंने प्राकृतिक के महत्व को जाना। मेरी माताश्री अपनी त्वचा व बालों के लिए घर की रसोई तथा बगीची में विद्यमान विभिन्न जड़ी बूटियों तथा प्राकृतिक उत्पादों से सौंदर्य प्रसाधन बनाकर उपयोग करती थ्ीा जिससे मुझे भी यह आदत पड़ गई तथा बाद में यह मेरी धुन व शौक बन गया।
मैंने अपना पहला हर्बल क्लीनिक अपने घर में ही खोला था इसलिए मैं अपने बच्चों के लिए हमेशा उपलब्ध रहती थी। मेरे बच्चे जब भी स्कूल से वापिस आते तो मुझे घर में पाकर प्रफुलित होकर लिपट जाते थे। मेरी बेटी अक्सर मेरे क्लीनिक में मेरी छोटी-मोटी मदद करती रहती थी। मेरे जीवन का यह समय सबसे ज्यादा रोचक और रोमांचक था क्योंकि उस समय हमारा व्यापार धीरे-धीरे सुदृढ़ता से बढ़ रहा था और मेरी बेटी मेरी सफलता में महत्वपूर्ण कड़ी साबित हो रही थी। अपने जीवन के अत्यंत व्यस्त व चुनौती भरे क्षणों में भी मैं हमेशा अपने बच्चों के साथ पारिवारिक छुट्टियों मनाने हर साल लंदन जाती थी।
मेरे बच्चे जब बहुत छोटे थे तो उनके साथ परिवार में बिताए पलअब भी मेरे जीवन के सबसे महत्वपूर्ण क्षण है। मैं साप्ताह के अंत में शनिवार, रविवार को अपने बच्चों के साथ दिल्ली में हमारे ज़ड़ी-बूटी तथा फूलों के फार्म में क्वालिटी समय व्यतीत करती थी। उस स्थल पर भी अपने बच्चों के साथ आत्मीय क्षणों को गुजार कर अपने आपको तरोताजा, आरामदेह तथा तनावमुक्त रखती थी। आज महिलाओं को पत्नी, मां व्यवसायिक करियर प्रोफेशनल आदि अनेक भूमिकाऐ अदा करनी पड़ रही हैं।
हालांकि समय परिवर्तनशील है, लेकिन मां हमेशा निस्वार्थ भाव से काम करते हुए आत्म बलिदानी की तरह अपने बच्चों की खुशी को स्वयं से ज्यादा महत्वपूर्ण मानती है। कहा जाता है कि मां के प्यार में भगवान का आशीष मिलता है। इस मर्दस-डे पर अपनी माताश्री की कद्र करते हुए उनका सम्मान कीजिए।

अंर्तराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त सौंदर्य विशेषज्ञ है तथा हर्बल क्वीन के नाम से लोकप्रिय है।

 

दीप्ति अंगरीश

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account