पीवीआर ने ‘एक्सेसेबल सिनेमा प्रोग्राम’ की घोषणा की

नई दिल्ली। फिल्म प्रदर्शन कम्पनी पीवीआर सिनेमाज़ ने ऐसे दर्शकों के लिए एक्सेसबल सिनेमा प्रोग्राम शुरू करने की घोषणा की है जो चलने, सुनने और देखने से लाचार (दिव्यांग) हैं। पहले चरण में 30 शहरों के 50 थिएटरों में इसके लिए सहायक उपकरण और तकनीक की व्यवस्था की जाएगी। पीवीआर के एक्सेसेबल सिनेमाज़ में ऐसे लोगों के लिए सहायक कई उपकरण होंगे जैसे स्टेप स्लाइडर, स्टेप क्लाइम्बर, रॉल-ए-रैम्प, स्टेयर लिफ्ट और वन स्टेप रैम्प ताकि ये दर्शक आसानी से व्हीलचेयर के अनुकूल तैयार सीट पर पहुंच जाएं। पीवीआर की वेबसाइट और ऐप पर ये सीट और साथ आए अन्य लोगों की सीट अंकित हैं ताकि बुकिंग करना आसान हो।

ऐसे दर्शकों के लिए पीवीआर ब्राज्मा इंटेलिजेंट सिस्टम्स प्राइवेट लि. के साथ साझेदारी कर एक्सएल सिनेमा ऐप के माध्यम से ऑडियो डिस्क्रिप्शन की सुविधा देगा। यह ऐप एंड्रॉयड और प्लैटफॉर्म पर उपलब्ध है। इसे सिनेमा के ऑडियो ट्रैक से आसानी से सिंक्रोनाइज़ किया जा सकता है और यह मोबाइल फोन के हेडफोन के माध्यम से ऑडियो डिस्क्राइब्ड ट्रैक को प्ले करता है। हाल में दृष्टि से लाचार लोगों ने इस ऐप की मदद से संजू और अंधाधुन मूवी का मज़ा लिया।

ऐसे दर्शकों के लिए पीवीआर ने शाम 6 बजे के बाद के पहले शो में सबटाइटल के साथ फिल्में (सब-टाइटल/ कैप्शन के साथ रिलीज फिल्में) दिखाने की व्यवस्था की है। इस अवसर पर संजीव बिजली, संयुक्त प्रबंध निदेशक, पीवीआर लिमिटेड ने कहा किएक्सेसेबल सिनेमाज़ का मकसद जन-जन को फिल्म देखने का आनंद देना है। हमें विश्वास है कि इस प्रयास से हम समाज के एक बड़े तबके को यह आनंद दे पाएंगे जो अब तक इससे वंचित रहा है।

वहीं, गौतम दत्ता, सीईओ, पीवीआर सिनेमाज़ ने कहा किएक्सेसेबल सिनेमाज़ लांच करते हुए हम बहुत खुश हैं क्यांकि हमारा मानना है कि मनोरंजन का अधिकार सभी को है। आज पीवीआर में हम सभी ‘एक्सेसेबलीटी’ को सफल बनाना अपना साझा लक्ष्य मानते हैं। हम अपने नए स्ट्रक्चर के माध्यम से दर्शकों को इसका पूरा लाभ देंगे। यह जन-जन को सिनेमा का आनंद देने का हमारा नया नजरिय है। हम ने जन-जन का ध्यान रखते हुए नई व्यवस्था की है। नई रूपरेखा बनाई है और निर्माण किया है। इस घोषणा के माध्यम से पीवीआर ने ‘अंतर्राष्ट्रीय दिव्यांग जन समारोह’ मनाया और अब कम्पनी का लक्ष्य जन-जन के लिए मनोरंजन सुनिश्चित करना है।

एडमिन

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account