प्रमुख सुर्खियाँ :

वेदों में जो ज्ञान सम्पदा है उसे हम दुनिया में देने को निकले हैं: भैय्या जी जोशी

नई दिल्ली। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सर कार्यवाह भैय्या जी जोशी ने कहा कि वेदों में जो ज्ञान सम्पदा है उसे हम दुनिया में देने को निकले हैं हमने कभी भी ज्ञान को अपने तक सीमित नहीं रखा। प्राचीन काल से हम देखते आ रहे हैं कि हम लोग कहीं भी कभी भी कुछ लेने के लिए नहीं बल्कि देने के लिए गए हैं। भारत हमेशा से ज्ञान को बांटने वाला देश रहा है। विश्व का जो समाज सकारात्मक सोचता है वह भारत की इस पुष्य संपदा को नमन करता है।

वह मंदिर मार्ग स्थित श्री लक्ष्मी नारायण (बिड़ला) मंदिर में आयोजित चतुर्वेद स्वाहाकार महायज्ञ के चौथे दिन बतौर यजमान पहुंचे थे। गृहमंत्री व भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह भी पहुंचे और यज्ञ में भाग लिया। भैय्या जी जोशी ने कहा कि लोग कहते हैं कि भविष्य भारत का है। भारत अपने श्रेष्ठ विचारों, परंपराओं और मूल्यों को लेकर आज विश्व के सामने बहुत सामथ्र्य के साथ प्रस्तुत हो रहा है।

उन्होंने कहा कि प्राचीर परंपरा चिंतन वेदों में समाविष्ट है। ऐसी बहुत संपदा ज्ञान के रूप में हमें प्राप्त हुई। हम इसके उत्तराधिकारी बने हैं। ईश्वरीय संकेतों के अनुसार कलयुग के इस चरण में भारत समेत विश्व में जो परिवर्तन प्रारंभ हुआ है। हम इसके साक्षी बने हैं। यह भी भाग्य है, लेकिन हम इस परिवर्तन के मूक साक्षी नहीं बल्कि इस परिवर्तन को गति देने का जो-जो प्रयास होगा हम उसके भागीदार बनेंगे।

उन्होंने कहा कि हमें जो भाग्य से मिला है, उसका अहंकार तो नहीं पर आनन्द जरूर है। इसके साथ ही ये देने की प्रक्रिया को अगर निरंतर चलाना है तो देने वालों का सामथ्र्य बढ़ना चाहिए। अन्यथा देने के लिए क्या है? देना केवल वाणी या ग्रंथों से नहीं होती। श्रेष्ठ जीवन के मूल्यों को लेकर आचरण करने वाला समाज ही दूसरों को कुछ दे सकता है। कभी सुनते हैं कि देश पर कभी अंग्रेजों का राज था। पर एक समय ऐसा आया जब बाबा रामदेव इंग्लैंड गए तो राजमहल बुलाकर रानी ने कहा कि हमें कुछ सीखाइए। तो बाबा रामदेव ने कहा कि आपने हमपर राज किया है। हम आपके श्वास पर राज करेंगे। पर इसमें विचार और आचरण सकारात्मक है। भारत को किसी को हराने की आवश्यकता नहीं है। वेदों में जो ज्ञान सम्पदा है उसे हम दुनिया में देने को निकले हैं हम किसी का प्रवाह नहीं करेंगे।

इस मौके पर राघावानंद महाराज, रामरंजन दास महाराज, स्वामी अवधेश दास, संत त्रिलोचन दास जी महाराज, योगी अर्पित दास, विहिप संरक्षक दिनेश चन्द्र जी, कोटेश्वर जी, सांसद मीनाक्षी लेखी जी, भाजपा के नेता सुधांशु मित्तल जी संकल्प संस्था के संचालनकर्ता संतोष जी तनेजा, क्षेत्रीय संगठन मंत्री मुकेश खाण्डेकर जी, विहिप के प्रांत कार्याध्यक्ष श्री वागीश जी, प्रांत मंत्री बचन सिंह जी सहित अन्य उपस्थित रहे। इसके पहले अमित शाह व भैय्या जी जोशी दोनों यजमान बने और यज्ञ में विधि विधानपूर्वक भाग लिया।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account