पर्यावरण पर सेमिनार, रंजना झा हुर्इं सम्मानित

नोएडा । सोशल एंपावरमेंट विलेजर्स एसोसिएशन (सेवा) के द्वारा नोएडा के कैलाश सभागार में विश्व पर्यावरण दिवस के अवसर पर जलवायु परिवर्तन समस्या एवं समाधान विषय पर राष्ट्रीय सेमिनार का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जहानाबाद के सांसद डॉ अरुण कुमार ने कहा कि पृथ्वी का बढ़ता तापमान खतरे की घंटी है जो कि लगातार बढ़ता जा रहा है। पेड़ लगाकर प्लास्टिक के बने सामान को बंद कर हम लोग एक सकारात्मक पहल कर सकते हैं । यह हम सब की सामूहिक जिम्मेदारी है । इस अवसर पर पूर्वी दिल्ली के महापौर बिपिन बिहारी ने कहा कि कूड़ा को इधर-उधर फैलाना बंद करे कूड़ा कूड़ेदान में ही डालें जनता जो अपनी नैतिक जिम्मेदारी सफाई के प्रति लेनी पड़ेगी तभी पर्यावरण का संरक्षण होगा । समृद्धि ग्रुप के एमडी दिनेश गुप्ता ने कहा की भवन निर्माण एवं औद्योगिक विकास के चलते पेड़ की बहुत कटाई हो रही है ऐसे में एक पेड़ अगर कटता है तो वंही आसपास एक के बदले दो पेड़लगायें, वंही किचेन के पानी का संरक्षण कर किचेन गार्डन बनाकर पर्यावरण को संतुलित करने की सकारात्मक कोशिस कर सकते हैं । तीसरी सरकार अभियान के संस्थापक डॉ चंद्रशेखर प्राण ने काफी विस्तृत रूप से लोगों को समझाया कि आज नहीं जागे तो आगे भारी समस्या झेलनी पड़ेगी । डॉ श्यामला मणि ने कहा कि कूड़ा – कचरा जलाना और कूड़े को नाले में बहाना पृथ्वी जल और वायु प्रदूषण तीनों के लिए बहुत बड़ा संकट है इससे लोगों को बचने की शख्त जरूरत है । विश्व युवक केंद्र के चीफ कंट्रोलर उदय शंकर ने कहा कि आज जल संकट बड़ी समस्या बनती जा रही है लोग होटल का या सार्वजनिक जगह पर जब जाते हैं तो पानी बहुत बर्बाद करते हैं जबकि घर में ऐसा नहीं करते हर किसी को पर्यावरण संरक्षण के लिए अपनी जिम्मेदारी निभानी पड़ेगी । बनारस घराने की प्रसिद्ध गायिका मीनाक्षी प्रसाद ने कहा कि प्रकृति और संगीत दोनों एक दूसरे के पर्याय है दोनों को संभालने और सहेजने की जरूरत है । इस अवसर पर सेवा के सचिव राकेश कुमार ने कहा कि लगातार आंधी और तूफान का आना तथा पृथ्वी का तापमान 2 डिग्री प्रति वर्ष बढ़ना बेहद भयभीत करने बाला है । ऐसे में हर किसी को अपनी जिम्मेदारी निभानी पड़ेगी तभी पर्यावरण का संरक्षण संभव है । प्लास्टिक का इस्तेमाल पर्यावरण की रक्षा के लिए बंद करना आवश्यक है एवं घर में फल फूल और सब्जी के गमले लगाकर भी हम पर्यावरण को बचाने की पहल कर सकते हैं । पर्यावरण की जागरूकता के लिए लोगों को आम, अमरुद, अनार, नींबू , गुलाब, तुलसी, पिपरमेन्ट, मिर्ची, पुदीना के पौथे दिए गए वंही जूट और कपड़े के थैले देकर पोलिथिन के थैले इस्तेमाल न करने के लिए लोगों को प्रेरित किया गया । देश और दुनिया में पहली बार पर्यावरण के गीत ढोल नगारे की चोट पर गाकर लोगों को जागरूक किया गया । इस अवसर पर जयपुर, भोपाल, गाजियाबाद, दिल्ली से भी सामाजिक संगठन के लोग आलोक वत्स , संजय बाली, मिथिलेश राय , डीसी प्रजापति, मनी बंसल,राजेंद्र शर्मा गणेश मिश्रा, रंजना झा, विजय कुमार मिश्रा आदि सैकड़ों लोग उपस्थित हुए। राकेश कुमार जी का हार्दिक धन्यवाद जो उन्होनें हमें भी इस कार्यक्रम में शामिल करने और सम्मानित होने का अवसर दिया।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account