सोनी YAY! ने अपने सालाना कार्यक्रम ‘हीरोज बिहाइंड द हीरोज’ के मनाया

मुंबई। सच्चे हीरोज हमेशा लबादा नहीं ओढ़ते; वे लोगों को सिखाते हैं, मार्गदर्शन प्रदान करते हैं और उनके सर्वश्रेष्ठ संभावनाओं को साकार करने में सहायता करते हैं. अपने ज्ञान और परख के साथ हमारे लिए अपने अनगिनत घंटे समर्पित करने वाले ये शिक्षक ही हैं जो अपने खून, पसीने और प्रेम के साथ हमारे जीवन में सबसे बड़े सुपर हीरो बन जाते हैं. भले ही हम विभिन्न क्षेत्रों में बेशुमार सफल आइकॉन्स की ओर देखते हैं, लेकिन ये उनके शिक्षक ही हैं जो उन्हें सफलता के और प्रेरित करते हैं. इस वर्ष, शिक्षक दिवस के अवसर पर सोनी YAY! एक विशिष्ट पहल ‘हीरोज बिहाइंड थे हीरोज’ के माध्यम से इन असली हीरोज का कीर्तिगान कर रहा है.

विगत दो वर्षों में, जब अनेक शिक्षक और स्टूडेंट्स एक मंच पर आये थे, प्राप्त अभूतपूर्व समर्थन के आधार पर ‘हीरोज बिहाइंड द हीरोज’ के तीसरे संस्करण में भी राष्ट्र के प्रख्यात मेंटर्स को सम्मानित किया जाएगा. हीरोज बिहाइंड द हीरोज के पिछले संस्करणों में सान्या मिर्ज़ा, टेरेंस लेविस, सुभाष घई, कैलाश सत्यार्थी, उस्ताद अमजद अली खान एवं अनेक अन्य जैसे महान समर्थकों को उनके प्रयासों के लिए सम्मानित किया गया है.

 

वर्तमान संस्करण में सोनी YAY! ने निम्नलिखित प्रेरणादायक व्यक्तियों को सम्मानित किया :

डिवाइन के नाम के लोकप्रिय, विवियन फ़र्नांडिस भारतीय रैप्पर हैं जिन्होंने रैप और हिप-हॉप को सीधे गलियों से मुंबई तैयार करते हुए देसी हिप-हॉप प्रतिभा की खोज और प्रबंधन करते हैं.

भारतीय सिनेमा उद्योग में एक दसक से अधिक समय से व्यस्त रहने वाले रेमो डिसूजा, आज न केवल फिल्म निर्देशक के रूप में कामयाबी के लिए जाने जाते हैं, बल्कि डांस के प्रति अपने जबरदस्त जूनून और हूनर के लिए भी लोकप्रिय है. एक उत्कृष्ट कोरियोग्राफर के तौर पर वे अपने प्रतिष्ठित रेमोज डांस इंस्टिट्यूट में डांसरों को मार्गदर्शन और प्रशिक्षण देते हुए अपनी विशेषज्ञता को आगे बढ़ा रहे हैं. भारतीय सिनेमा में उल्लेखनीय योगदान करने वाले उनके स्टूडेंट्स फ्रीस्टाइल, ब्रेक डांस, हिप हॉप, जाज़, कंटेम्पररी, वाल्ट्ज, सालसा और बॉलीवुड स्टाइल जैसी विभिन्न नृत्य विधाओं में माहिर हो चुके हैं. उनके शिष्य देश और विदेशों में अनेक पुरस्कार समारोहों तथा अन्य प्रतिष्ठित आयोजनों में अपने परफॉरमेंस से धूम मचा रहे हैं.

निर्देशक महेश भट्ट हिंदी सिनेमा में अपने विशिष्ट कार्य के लिए विख्यात हैं. भारतीय फिल्म निर्माता के रूप में इन्हें न केवल भारतीय फिल्म बिरादरी में बल्कि पूरे विश्व में उच्च सम्मान प्राप्त है. इन्होंने बॉलीवुड के अनेक कामयाब कलाकारों को मार्गदर्शन और प्रशिक्षण प्रदान किया है और फिल्‍म उद्योग में कुछ सबसे बेहतरीन कृतियों के लिए मशहूर हैं.

हीरोज बिहाइंड द हीरोज कैंपेन द्वारा उन गुरुओं का भी सम्मान किया गया है, जिन्होंने देश का प्रतिनिधित्व करने वाले क्रिकेट आइकॉन्स बनाए बल्कि अपने-अपने क्रिकेट अकादमियों के माध्यम से मुंबई में जमीनी क्रिकेट को काफी समृद्ध बनाया है. दिनेश लाड क्रिकेट जगत में एक प्रसिद्ध नाम हैं. दिनेश को देश के वर्तमान वाईस कप्तान, रोहित शर्मा और अपने बेटे सिद्देश लाड की क्रिकेट प्रतिभा को विकसित करने और संवारने का श्रेय प्राप्त है. इतना ही नहीं, वे स्वामी विवेकानंद इंटरनेशनल स्कूल में प्रतिभाओं को प्रशिक्षित करने का काम कर रहे हैं.

मुंबई के ही मैदानों से निकले, श्री दिलीप वेंगसरकर आजकल शहर में तीन-तीन अकादमियों के प्रमुख हैं. इस चैनल ने भारतीय क्रिकेट में उनके योगदान के अलावा अजित अगरकर और रमेश पोवार जैसे मशहूर क्रिकेट खिलाडियों को प्रशिक्षित और दीक्षित करने के लिए समानित किया. उनके मार्गदर्शन में आज के उभरते क्रिकेट खिलाड़ियों ने भारत का प्रतिनिधित्व करने का अपना सपना पूरा करने के दिशा में अपने-अपने क्रिकेट कौशल को निखारा है.

केवल क्रिकेट ही नहीं, बैडमिंटन के खिलाड़ी भी विश्व मंच पर अपना प्रभुत्व स्थापित करते हुए देश के लिए गौरव हासिल कर रहे हैं. भविष्य के नए बैडमिंटन स्टार्स को प्रस्तुत करने में सबसे अधिक प्रेरक व्यक्तित्वों में से एक है, श्री पुलेला गोपीचंद. श्री गोपीचंद ने सान्या नेहवाल और पी.वी.सिन्धु जैसों को अपनी छत्रछाया प्रदान की और उन्हें सम्पूर्णता तक प्रशिक्षित किया. 2009 के द्रोणाचार्य पुरस्कार-प्राप्त पुलेला गोपीचंद, इन दो सुपरस्टार्स के अलावा, हैदराबाद स्थित अपने गोपीचंद बैडमिंटन अकैडमी में नवयुवा लड़के-लड़कियों को बैडमिंटन का प्रशिक्षण दे रहे हैं. वे खुद भी बैडमिंटन खिलाड़ी हैं और भारतीय बैडमिंटन दल को राष्ट्रीय कोच के रूप में अपनी गुरुत्व प्रदान कर रहे हैं.

इस पहल के अंतर्गत जीवन के अन्य क्षेत्रों के हीरोज को भी सम्मानित किया गया है. उनमें से एक हैं अफरोज शाह, जो मुंबई शहर में समुद्रतट की सफाई के सबसे बड़े अभियान के जनक हैं. मुंबई निवासी और पेशे से वकील, अफरोज शाह ने अक्टूबर 2015 में इस अभियान का सूत्रपात किया जिसके तहत तीन साल में 2.5 किलोमीटर लंबा वर्सोवा तट की सूरत बदल गयी. हर रविवार को वर्सोवा तट की सफाई दुनिया में सबसे बड़े नागरिक अभियानों में से एक था. उनकी कोशिशों को संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी मान्यता दी और 2016 में उन्हें चैंपियंस ऑफ़ द अर्थ अवार्ड से सम्मानित किया.

इस पहल के माध्यम से सम्मानित एक और नाम है रिया शर्मा का. रिया शर्मा ‘मेक लव नॉट स्कार्स’ (एमएलएनएस) नामक एनजीओ की संस्थापिका हैं. एमएलएनएस ने 2014 से लेकर अभी तक तेज़ाब के हमले की शिकार साठ से अधिक व्यक्तियों का पुनर्वास किया है. उनके कैंपेन #एंडएसिडसेल को 2016 में फिल्म में गोल्ड कांस लायन से पुरस्कृत किया गया था. विगत वर्षों में उनके एनजीओ, जो भारत में एसिड अटैक उत्तरजीवियों के लिए धनराशि एकत्र करता है, ने अनेक उत्तरजीवियों को चिकित्सीय, कानूनी, आर्थिक, मनोवैज्ञानिक और शैक्षणिक रूप से पुनर्स्थापित करने में सहयोग किया है.

इस हृदयस्पर्शी पहल में सोनी YAY! की मशहूर झोडी हनी और बनी ने मनोरंजन का तड़का लगाया. अपने हलके-फुल्के हंसी-मजाक केऔर बच्चों को अपने दोस्ताना अंदाज़ से कुछ-न-कुछ सिखाते रहने के लिए मशहूर इस जोड़ी ने इन हीरोज को सम्मानित किया. आइकॉन्स के लिए यह एक आनंददायक अनुभव था जैसा कि इस बिल्ली-सदृश जोड़ी व्यक्तिगत तौर पर उन्हें सम्मानित करने उन तक पहुँची थे.

इस कैम्पेन में माध्यम से चैनल का लक्ष्य इन शख्सियतों को सम्मानित करना है जो उत्कृष्टता के अध्यवसाय में निरंतर लगे हैं और कल के नए चैंपियन तैयार कर रहे हैं. आज के हीरोज को ढालने वाले इन गुरुओं को, उनके जीवन के रचनात्मक वर्षों के दौरान हृदयस्पर्शी निःस्वार्थ योगदान के लिए, सम्मानित करना ही हीरोज बिहाइंड द हीरोज का असली उद्देश्य है!

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account