प्रमुख सुर्खियाँ :

संसार के सबसे बडे राजनीतिज्ञ हैं श्रीकृष्ण: अजय बंसल

 

नई दिल्ली। पूरे देश में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया जा रहा है। मंदिरों में विशेष पूजा अर्चना की जा रही है। भाजपा नेता और श्रीराम सेवा संस्थान के अजय बंसल ने कहा कि वर्तमान समय में यदि कोई आराध्य सबसे अधिक प्रासंगिक हैं, तो वे हैं भगवान श्रीकृष्ण। उनका पूरा जीवन अनुकरणीय है। आपके और हमारे जीवन में कोई ऐसी समस्याएं नहीं है, जिसका समाधान आप तलाशें तो श्रीकृष्ण के चरित्र में नहीं मिलता हो। मेरा तो मानना है कि इस संसार में श्रीकृष्ण से बडा राजनीतिज्ञ और कूटनीतिक कोई दूसरा नहीं है।

भाजपा नेता अजय बंसल ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने अपने संपूर्ण जीवन में कूटनीति के बल पर परिस्थितियों को अपने अनुसार ढालकर भविष्‍य का निर्माण किया था। उन्होंने जहां कर्ण के कवच और कुंडल दान में दिलवा दिए, वहीं उन्होंने दुर्योधन के संपूर्ण शरीर को वज्र के समान होने से रोक दिया। सबसे शक्तिशाली बर्बरीक का शीश मांग लिया तो दूसरी ओर उन्होंने घटोत्कच को सही समय पर युद्ध में उतारा। ऐसी सैकड़ों बातें हैं जिससे पता चलता है कि किस चालाकी से उन्होंने संपूर्ण महाभारत की रचना की और पांडवों को जीत दिलाई।

भाजपा नेता अजय बंसल ने कहा कि हिंदू धर्मग्रंथों में जितने भी देवी-देवताओं का जिक्र मिलता है, उनमें श्रीकृष्ण सबसे लोकप्रिय हैं – ग्वालों के बालगोपाल, प्रेम के देवता, धर्मोपदेशक और एक अजेय योद्धा। उनकी पूरी कहानी, जिसे कृष्णगाथा भी कह सकते हैं, कई बिलकुल अलग-अलग तरह के तत्वों को बडी सुंदरता से जोड़ने पर बनी है। अजय बंसल ने कहा कि कृष्ण ने जो भी कार्य किया, उसे अपना कर्म समझा, अपने कार्य की सिद्धि के लिए उन्होंने साम-दाम-दंड-भेद सभी का उपयोग किया, क्योंकि वे जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में पूर्ण जीते थे और पूरी जिम्मेदारी के साथ उसका पालन करते थे। न अतीत में और न भविष्य में, जहां हैं वहीं पूरी सघनता से जीना ही उनका उद्देश्य रहा।

श्रीराम सेवा संस्थान के अजय बंसल ने कहा कि भगवान श्रीकृष्ण ने ऋषि वेदव्यास के साथ मिलकर धर्म के लिए बहुत कार्य किया। गीता में उन्होंने कहा भी है कि जब-जब धर्म की हानि होगी, तब-तब मैं अवतार लूंगा। श्रीकृष्ण ने नए सिरे से उनके कार्य में सनातन धर्म की स्थापना की थी। भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत में युद्ध नहीं लड़ा था। वे अर्जुन के सारथी थे। लेकिन उन्होंने कम से कम 10 युद्धों में भाग लिया था। उन्होंने चाणूर, मुष्टिक, कंस, जरासंध, कालयवन, अर्जुन, शंकर, नरकासुर, पौंड्रक और जाम्बवंत से भयंकर युद्ध किया था। महाभारत के युद्ध में उन्होंने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। इस युद्ध में वे अर्जुन के सारथी थे। हालांकि उन्हें ‘रणछोड़ कृष्ण’ भी कहा जाता है। इसलिए कि वे अपने सभी बंधु-बांधवों की रक्षा के लिए मथुरा छोड़कर द्वारिका चले गए थे। वे नहीं चाहते थे कि जरासंध से मेरी शत्रुता के कारण मेरे कुल के लोग भी व्यर्थ का युद्ध करें।

 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account