स्टॉक मार्केट के तूफान में टिके रहने के 5 गोल्डन रूल्स

नई दिल्ली।  ट्रेडिंग एक ऐसी गतिविधि है जिसे हम सभी पसंद करते हैं। आखिर नकदी की आवाज किसे पसंद नहीं है? हालांकि, ऐसा समय भी होता है जब हमारे में मौजूद सर्वश्रेष्ठ भी अनुमान लगाने में गलती कर जाता है। मौजूदा दौर ऐसा ही है, जिससे हम गुजर रहे हैं। हालांकि, अनुभवी निवेशकों के पास ऐसी परिस्थितियों के दौरान खुद को नुकसान से बचाने के लिए एक रक्षा तंत्र है। यह उन्हें अस्थिरता का मुकाबला कर अपने पोर्टफोलियो को सुरक्षित बनाने में सक्षम बनाता है। इस रक्षात्मक दृष्टिकोण के कुछ गुण इस प्रकार हैं:

 

 

मार्केट की दिशा का सम्मान करें

 

 

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण, हर ट्रेडर को बाजार की दिशा का सम्मान करना आना चाहिए। बाजार में “भाव भगवान है” और “ट्रेंड फ्रेंड है” जैसे प्रसिद्ध स्वयंसिद्ध वाक्य बड़े लोकप्रिय हैं। वे यह संकेत देते हैं कि प्रत्येक व्यापारी को जिद्दी हुए बिना बाजार से मिल रही दिशा का सम्मान करना चाहिए। हम सभी वैसे भी ट्रेंड दिशा का आकलन करने के लिए चलती औसत के विभिन्न रूपों का उपयोग करते हैं।

 

वित्तीय अनुशासन

 

यह किसी के लिए सबसे सहज प्रतिक्रिया है। हालांकि, जब बाजार अस्थिर होता है तो ट्रेडर काउंटर-इंट्यूटिव हो जाते हैं। यह इसलिए होता है कि मानवीय पूर्वाग्रह डर और लालच, दोनों भावनाओं से प्रेरित हो सकते हैं। हालांकि, रिस्क मैनेजमेंट हमेशा आपके निवेश का महत्वपूर्ण पहलू है। अपने जोखिम को कम रखने के लिए आपको सख्ती से स्टॉप लॉस नियम का पालन करने की आवश्यकता है। आखिरकार, बचाया गया हर पैसा हर कमाये गए पैसे के बराबर होता है।

 

 

लीवरेज ट्रेडिंग से बचें

 

 

यदि आप अपना दांव सही लगाते हैं, तो लीवरेज ट्रेडिंग आपको एक उच्च-स्तरीय  रिटर्न देता है। और यदि थोड़ी गलती होती है तो आप अपनी निवेश की गई पूरी राशि गंवा सकते हैं। अस्थिरता के दौरान बाजार में उतार-चढ़ाव जारी रहता है और स्टॉक्स उच्च और निम्न स्तरों के बीच झूलते रहते हैं। कभी-कभी कोई स्टॉक बिना कोई सुराग दिए भी सामान्य प्रवृत्ति से बढ़ सकता है। इसलिए, लीवरेज्ड ट्रेडिंग केवल आपको उच्च जोखिम में डालती है और इसलिए, इससे बचना चाहिए।

 

गिरने वाला चाकू पकड़ने से बचें

 

 

यदि आप गिरते हुए चाकू को पकड़ने की कोशिश करते हैं, तो आपके चोटिल होने की संभावना अधिक होती है। ऐसे कठिन समय में आपको मौजूदा ट्रेडों के ‘औसत’ सहित कुछ प्रथाओं से बचना चाहिए। वे बाजार के अंडरकरेंट्स को सामने नहीं लाते। आपको पहले चीजों को स्थिर होने देना चाहिए और फिर गुणवत्ता प्रस्तावों में उद्यम शुरू करना चाहिए।

 

 

छोटे स्टॉक/ कमटिकटसाइज़ वाले स्टॉक को खरीदने से बचें

 

 

इस तरह के संकट के दौरान कुछ कमजोर स्टॉक पेनी स्टॉक बन जाते हैं या दो अंकों के क्षेत्र में प्रवेश कर सकते हैं। चूंकि मार्केट में ‘बाय लो, सेल हाई’ का मंत्र कारगर है। ऐसे में खरीदार उन्हें खरीदने के लिए उत्सुकता महसूस करते हैं।आम तौर पर, इस तरह के पेनी स्टॉक उसके बाद नहीं बढ़ते हैं। कुछ अपवाद हमेशा होते हैं, लेकिन वे जोखिम उठाने लायक नहीं होते हैं। ये कुछ ऐसे गुण हैं, जिन्हें वित्तीय अनिश्चितता के दौरान हर निवेशक को अपनाना चाहिए। वे ऐसी अवधि के दौरान संबद्ध जोखिमों से आपके पोर्टफोलियो को बचाने में एक लंबा रास्ता तय करते हैं।

इनपुट्स –  श्री समीत चव्हान, चीफ एनालिस्ट, टेक्निकल एंड डेरिवेटिव्स, एंजिल ब्रोकिंग लिमिटेड

 

 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account