लवकुश रामलीला : सीता हरण का मार्मिक मंचन

दुनिया की सबसे बड़ी लवकुश रामलीला की ओर से लाल किला मैदान में मंचित किया जा रहा लीला मंचन के पांचवें दिन हिंदू महाकाव्य ‘रामायण’ के सबसे नाटकीय दृश्यों में से एक सीता हरण का मार्मिक चित्रण किया गया। लवकुश रामलीला कमेटी के कलाकारों ने बहुत ही गंभीर एवं गहन तरीके से इस दृश्य का मंचन किया, जिसे उपस्थित दर्शकों को बहुत रोमांचित किया। बता दें कि रामलीला में अंगद हसीजा जहां भगवान राम काकिरदार निभा रहे हैं, वहीं शिल्पा रायजादा के हिस्से में सीता का किरदार आया हे। नारद के रूप में राजेश पुरी लोगों को लोटपोट कर रहे हैं, लंकाधिपति रावण के किरदार से पुनीत इस्सर लोगों में खौफ पैदा कर रहे हैं।

पांचवें दिन की लीला में सीता हरण के अलावा रामलीला के कलाकारों ने भगवान राम, लक्ष्मण और सीता जी की आगस्त्य मुनि के आश्रम की यात्रा की कहानी भी सुनाई। इसके अलावा रावण की बहन सूर्पणखा की ओर से लक्ष्मण के साथ अपने विवाह के प्रस्ताव एवं इसके बदले में लक्ष्मण द्वारा सूर्पणखा की नाक को अपनी तलवार से काटने के दृश्य का भी मनोहारी मंचन किया गया।

भगवान राम और लक्ष्मण से बदला लेने की भावना के साथ आया खरदूशन जहां मौत को प्राप्त हुआ, वहीं राक्षस रावण ने सीता का अपहरण कर लिया और उन्हें लंका स्थित अशोक वटिका में ले गया। इसी के साथ रामलीला में जटायु मोक्ष की कहानी, रावण के साथ उनकी लड़ाई, उसका घायल होना, रावण द्वारा सीता जी के हरण के बारे में भगवान राम को सूचित करना जैसे दृश्य भी लोगों को लुभा गए।

इससे पहले दुनिया के सबसे बड़े रामलीला के चौथे दिन कलाकारों की टीम ने भगवान राम की बारात, राम-सीता-लक्ष्मण के वनवास पर जाने, कैकेई और मंथरा के बीच वार्तालाप, भरत को अयोध्या का राजा बनाने के लिए दशरथ और कैकेई के बीच चर्चा, भगवान राम के साथ निशाद राज की बैठक आदि का मंचन किया गया था।

लवकुश रामलीला कमेटी दिल्ली की सबसे पुरानी समितियों में से एक है। अपनी स्थापना के बाद से ही समिति दिल्ली के लाल किला में रामलीला का आयोजन कर रही है। 40 वर्षीय लवकुश रामलेला 10 अक्टूबर से शुरू हुआ है, जो 21 अक्टूबर तक चलेगा।

एडमिन

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account