तिरुपति बालाजी मंदिर में 100 करोड़ का घोटाला !

हैदराबाद। भारत के सबसे अमीर मंदिरों में से एक विश्व प्रसिद्ध तिरुपति बालाजी मंदिर में घोटाले के आरोप लगे हैं। मौजूदा मंदिर प्रशासन पर करोड़ों रुपए का घोटाला करने के आरोप लगे हैं। इन्हीं आरोपों के बीच मंदिर के मुख्य पुजारी को हटा दिया गया है। पुजारी रमन्ना दीक्षितुलु ने आरोप लगाया था कि तिरुपति मंदिर प्रशासन मंदिर में चढ़ावे का दुरुपयोग करता है। मुख्य पुजारी रमन्ना ने आन्ध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू पर गंभीर आरोप लगाए हैं। मन्दिर के बोर्ड सदस्यों को सीएम चुनते हैं।
 रमन्ना का आरोप है कि मन्दिर के रसोईघर जहां हजार साल से प्रसाद बन रहा था, उसे तुड़वाकर करोड़ो के प्राचीन आभूषण और जेवर-जवाहरात गायब कर दिए गए हैं। पुजारी रहे रमन्ना ने आरोप लगाया कि तिरुपति मन्दिर के सौ करोड़ की राशि चंद्रबाबू नायडू ने मन्दिर के नियम विरुद्ध अपने राजनीतिक फैसले के लिए खर्च करवा दिए। इसी आरोप के बाद पुजारी रमन्ना दीक्षितुलु को हटा दिया गया है। मालूम हो कि इस प्राचीन मंदिर में गरीबों के साथ बड़े-बड़े कारोबारी, फिल्मी सितारे और राजनेता दर्शन के लिए पहुंचते हैं। हर साल लाखों लोग तिरुमाला की पहाड़ियों पर उनके दर्शन करने आते हैं। तिरुपति के इतने प्रचलित होने के पीछे कई कथाएं और मान्यताएं हैं। इस मंदिर से बहुत सारी मान्यताएं जुड़ी हैं।
 मान्यता है कि तिरुपति बालाजी इस मंदिर में अपनी पत्नी पद्मावती के साथ तिरुमला में रहते हैं। तिरुपति बालाजी मंदिर के मुख्य दरवाजे के दाईं ओर एक छड़ी है। कहा जाता है कि इसी छड़ी से बालाजी की बाल रूप में पिटाई हुई थी, जिसके चलते उनकी ठोड़ी पर चोट आई थी। मान्यता है कि बालरूप में एक बार बालाजी को ठोड़ी से रक्त आया था। इसके बाद से ही बालाजी की प्रतीमा की ठोड़ी पर चंदन लगाने का चलन शुरू हुआ।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account