युनीसेफ ने बाल्यावस्था के विकास में निवेश को प्राथमिकता देने का आह्वान किया

नई दिल्ली। जैसे की दुनिया COVID-19 महामारी के बीच, वैश्विक माता-पिता दिवस (Global Day of Parents) (1 जून) मना रही है, यूनीसेफ ने COVID-19 प्रतिक्रिया के तहत परवरिश पर ध्यान देने सहित प्रारंभिक बाल्यावस्था विकास (ECD) में निवेश को प्राथमिकता देने की तत्काल आवश्यकता को दोहराया। यह निरोध्य बाल मृत्यु को कम करने, बच्चों के खिलाफ हिंसा को रोकने के लिए और लंबी अवधि में आर्थिक सुधार और उत्पादकता बढ़ाने के लिए महत्वपूर्ण है।

संकट के समय में, छोटे बच्चों का समर्थन करने वाली सेवाओं को अक्सर प्राथमिकता नहीं दी जाती है और अंत में अनदेखी की जाती है, जो छोटे बच्चों को असमान रूप से प्रभावित करता है। संभवतः पहले से ही दुर्लभ संसाधनों को महामारी की प्रतिक्रिया के लिए मोड़ दिया जाएगा। सरकारों के साथ-साथ, परिवारों और समुदायों को भी बच्चों के लिए पोषण और सुरक्षात्मक वातावरण के निर्माण में अपनी भूमिका और महत्व को समझना होगा।

आज, यूनीसेफ की अगुआई में किए गए प्रारंभिक अध्ययन “पेरेंटिंग मैटर्स” के प्रमुख परिणाम : पेरेंटिंग दृष्टिकोण और अभ्यास की जांच, ज्ञान का आकलन, पेरेंटिंग पर माता-पिता, परिवार और सेवा प्रदाता का व्यवहार तथा अभ्यास, जारी किए गए। कुछ सुस्पष्‍ट हैं और तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता की ओर इशारा करते हैं – विशेष रूप बच्चों को जिस तरह की हिंसा का सामना करना पड़ रहा है।

भारत में यूनीसेफ की प्रतिनिधि डॉ. यास्मीन अली हक ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा, “इबोला संकट के हमारे अनुभव बताते हैं कि छोटे बच्चों के साथ हिंसा, दुर्व्यवहार और उपेक्षा होने की संभावना अधिक होती है क्योंकि परिवार जिंदगी से संघर्ष करने में व्यस्त रहते हैं, जिसका उन पर आजन्म प्रभाव पड़ सकता है। बच्चों के दोनों तरह के मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को प्रोत्साहित करने के लिए सकारात्मक पेरेंटिंग अभ्यासों पर जागरूकता अब पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक है।“

CHILDLINE 1098, जिसे महिला और बाल विकास मंत्री द्वारा आपातकालीन सेवा घोषित किया गया है, ने बताया है कि अप्रैल में दो सप्ताह के लॉकडाउन के दौरान, परेशान बच्चों के द्वारा की गई कॉलों की संख्या में 50 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। लॉकडाउन में आवाजाही पर प्रतिबंध और प्रीस्कूल और स्कूलों को बंद करने से अपने बच्चों के सर्वाइवल, देखभाल और शिक्षा के लिए माता-पिता पर तत्काल दबाव बना है।

जब कोई बच्चा वयस्क के बिना शारीरिक या भावनात्मक शोषण, उपेक्षा, हिंसा के संपर्क में आता है, या आर्थिक तंगी का बोझ महसूस करता है, तो यह उनके तनाव की प्रतिक्रिया को सक्रिय करता है। लंबे समय तक तनाव व्यक्ति के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर स्थायी प्रभाव डाल सकता है – जीवन भर के लिए। अनुसंधान बताता है कि जीवन में जल्द से जल्द देखभाल करने वाले वयस्कों के साथ सहायक, उत्तरदायी रिश्ते विषाक्त तनाव प्रतिक्रिया के हानिकारक प्रभावों को रोक सकते हैं या विपरीत कर सकते हैं। इसलिए, माता-पिता को तनाव और मानसिक स्वास्थ्य के मुद्दों से निपटने के साथ-साथ पाज़िटिव पेरेंटिंग की आवश्यकता है।

कोवीड -19 के तहत, आवश्यक सेवाओं के रूप में बाल संरक्षण सेवाओं को नामित करने की तत्काल आवश्यकता है। प्रतिक्रिया में मानसिक स्वास्थ्य और मनोसामाजिक सहायता और वैकल्पिक देखभाल व्यवस्था सहित महत्वपूर्ण स्वास्थ्य और सामाजिक कल्याण और बाल संरक्षण सेवाओं का प्रावधान शामिल होना चाहिए। सबसे कमजोर बच्चों को, जिनमें प्रवासी और अनाथ बच्चे भी शामिल हैं, सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए ये सेवाएँ सभी के लिए उपलब्ध होनी चाहिए।

माता-पिता, देखभालकर्ता और बच्चों के साथ सबूत आधारित जानकारी और सलाह के साथ संवाद करना आवश्यक है। अध्ययन में देखभालकर्ताओं के साथ बेहतर तरीके से जुड़ने के लिए फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं के कौशल निर्माण की सिफारिश की गई है। अपने बच्चे के विकास में सहायता करने के लिए देखभाल करने में यह पिताओं के गुणवत्तापूर्ण जुड़ाव की आवश्यकता पर भी प्रकाश डालता है।

महाराष्ट्र, ओडिशा, छत्तीसगढ़, असम, राजस्थान और उत्तर प्रदेश जैसे राज्य अभिनव पेरेंटिंग कार्यक्रमों को लागू करने में अग्रणी हैं, जिन्हें अन्य राज्य अपना सकते हैं। यूनीसेफ समर्थन के साथ, माता-पिता, विशेष रूप से पिता, को उनके घरों में और आसपास आसानी से उपलब्ध सामग्री का उपयोग करने के लिए जानकारी और कौशल प्रदान किया जा रहा है। कहानी सुनाने, गाने और बच्चों के साथ खेलने के माध्यम से माता-पिता का बेहतर और अधिक जुड़ाव हुआ है – बच्चे के मस्तिष्क के विकास के लिए यह सभी महत्वपूर्ण हैं। यह आंगनवाड़ी और आशा कार्यकर्ताओं के प्रशिक्षण के माध्यम से किया जा रहा है, इसलिए वे अपने मौजूदा प्लेटफार्मों का उपयोग माता-पिता के जुड़ाव के लिए प्रभावी रूप से कर सकते हैं जैसे कि मासिक माता-पिता की बैठकों और घर पर मुलाकात के माध्यम से। राज्यों ने ईट, प्ले और लव के महत्व को ध्यान में रख कर सभी माता-पिता और देखभालकर्ताओं को शामिल करने के लिए सामुदायिक कार्यक्रमों का आयोजन किया है, जैसे कि महाराष्ट्र में पलक (देखभालकर्ता) मेला।

यूनीसेफ, भागीदारों के साथ मिलकर, अपनी website पर बच्चों के साथ प्रभावी ढंग से जुड़ने के लिए माता-पिता के लिए कई टूल / संसाधन / सलाह जारी कर रहा है। 2019 में, यूनीसेफ कई समुदाय-आधारित भागीदारों के साथ 1.2 मिलियन माता-पिता और देखभालकर्ताओं तक पेरेंटिंग कार्यक्रमों के साथ पहुंचा।

 

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account