दिव्यांगों को समर्पित होगा विश्व पुस्तक महाकुंभ 2019

नई दिल्ली। केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर शनिवार को प्रगति मैदान में 27वें विश्व पुस्तक मेले का उद्घाटन करेंगे। दिव्यांगों के प्रति समाज में दया भाव के बजाय सम्मान और समानता का भाव जगाने के उद्देश्य से मेले की थीम दिव्यांगजनों की पठन आवश्यकता रखी गई है। राष्ट्रीय पुस्तक न्यास (एनबीटी) के अध्यक्ष बल्देव भाई शर्मा ने गुरुवार को यहां संवाददाता सम्मेलन में यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि एनबीटी 5 से 13 जनवरी तक भारत व्यापार संवर्द्धन संगठन (आईटीपीओ) के सहयोग से यह मेला आयोजित कर रहा है। मेले में 600 से अधिक प्रकाशक, 23 हजार वर्ग मीटर से अधिक क्षेत्र में लगभग 1300 स्टॉलों पर विभिन्न भाषाओं में पुस्तकें प्रदर्शित करेंगे।

उन्होंने कहा कि पुस्तक प्रेमियों के हितों को ध्यान में रखते हुए इस बार मेला की टिकटों की दरों को भी घटा दिया गया है। मेला का टिकट 10 और 20 रुपये में उपलब्ध होगा। दिव्यांग जनों, वरिष्ठ नागरिकों और स्कूली बच्चों को प्रवेश निरूशुल्क दिया जाएगा। उन्होंने पुस्तकों को जीवन की प्रेरणा बताते हुए आईटीपीओ से भविष्य में पुस्तक मेले में प्रवेश को निरूशुल्क करने का भी आग्रह किया। मेले के थीम मंडप में ब्रेल पुस्तकों, स्पर्शनीय पुस्तकों, आडियो पुस्तकों, आटिस्टि​क बच्चों और मनोवैज्ञानिक समस्याओं पर आधारित 500 पुस्तकें होंगी।

इसके अलावा महात्मा गांधी की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में मेले में एक विशेष प्रदर्शनी लगाई जाएगी। इस स्टॉल पर गांधी तथा स्वतंत्रता आंदोलन में उनके सहयोगियों पर आधारित पुस्तकों को प्रदर्शित किया जाएगा। उन्होंने कहा कि मेले में पहली बार अंतरराष्ट्रीय दिव्यांग फिल्म फेस्टिवल आयोजित किया जाएगा। इसमें 27 देशों की 50 से अधिक डॉक्यूमेंट्री फिल्में दिखाई जाएंगी। पाकिस्तान, अबूधाबी, कनाडा, चीन, मिस्र, फ्रांस, जर्मनी, कीनिया, ईरान, जापान, इटली, मैक्सिको,पोलैंड, सउदी अरब, सिंगापुर, स्पेन, श्रीलंका, अमेरिका सहित 20 से अधिक देश और यूनेस्को आदि अंतरराष्ट्रीय एजेंसियां भी हिस्सा लेंगी। उन्होंने कहा कि मेले में उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान शारजाह के राजकीय संबंध विभाग के कार्यकारी अध्यक्ष शेख फहीम बिन सुल्तान अल कासिमी मुख्य अतिथि होंगे। शारजहां पुस्तक प्राधिकरण के अध्यक्ष अहमद​ बिन रक्काद अल अमेरी सम्मानित अतिथि होंगे। आल इंडिया कॉन्फेडरेशन आफ द ब्लाइंड के महासचिव जवाहर लाल कौल तथा शारजहां के लेखक प्रतिनिधि हबीब योसेफ अब्दुल्लाह अल सईद विशिष्ट अतिथि होंगे।

प्रगति मैदान में पुनर्निर्माण कार्य के बीच पुस्तक मेला लगाने को बड़ी चुनौती बताते हुए आईटीपीओ के कार्यकारी निदेशक दीपक कुमार ने कहा कि सीमित स्थान के चलते मेले में केवल तीन स्थानों पर प्रवेश द्वार होंगे। उन्होंने कहा कि मौजूदा समय में प्रगति मैदान की क्षमता काफी घट गई हैद्य इ​सी को देखते हुए एक दिन में यहां अधिकतम 40 से 42 हजार पुस्तक प्रेमी ही आ सकेंगे। उन्होंने कहा कि टिकटों की बिक्री आनलाइन के साथ-साथ 50 मेट्रो स्टेशनों के माध्यम से भी की जाएगी।

एडमिन

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account