प्रमुख सुर्खियाँ :

कोवीशील्ड और कोवैक्सीन डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी : राजेश भूषण

नई दिल्ली। देश में 21 जून को एक दिन में कोविड टीके की सबसे अधिक खुराक दी गई, इनमें से 36.32 प्रतिशत टीके शहरों क्षेत्रों में लगाये गये, 63.68 प्रतिशत टीके ग्रामीण क्षेत्रों में लगाये गये। सरकार का कहना है कि टीकाकरण के मामले में शीर्ष दस स्थान पर रहने वाले राज्यों में मध्य प्रदेश , कर्नाटक, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा, गुजरात, राजस्थान, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, असम शामिल हैं। सात मई को कोरोना वायरस संक्रमण के सबसे अधिक मामले सामने आने के बाद देश में इस महामारी के रोजाना आने वाले मामलों में लगभग 90 प्रतिशत की गिरावट आई है।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के सचिव राजेश भूषण ने कहा कि कल 21 जून को पूरे देशभर में 88,09,000 कोविड वैक्सीन की डोज़ लगाई गई। 40,43,000 वैक्सीन की डोज़ कल महिलाओं को लगाई गई और 47,24,283 वैक्सीन की डोज़ पुरुषों को लगाई गई। 15 जून से 21 जून के बीच देश में 553 जिले ऐसे थे जहां संक्रमण दर 5 फीसदी से कम थी।

डेल्टा वैरिएंट पर कोरोना रोधी वैक्सीन कितनी कारगार है, इस सवाल पर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने कहा कि मोटे तौर पर दोनों भारतीय टीके जो हम कोरोना टीकाकरण कार्यक्रम में उपयोग कर रहे हैं कोवीशील्ड (Covishield) और कोवैक्सीन (Covaxin) डेल्टा वैरिएंट के खिलाफ प्रभावी हैं। लेकिन वे किस हद तक और किस अनुपात में एंटीबॉडी टाइटर्स का उत्पादन करते हैं, जिसे हम जल्द ही आपके साथ साझा करेंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण (National Health Authority), केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय और विदेश मंत्रालय मिलकर एक वैश्विक वेबिनार की योजना बना रहे हैं। इस वेबिनार में ऐसे संभावित इच्छुक देशों को आमंत्रित किया जाएगा और हम उनके साथ प्रौद्योगिकी और समाधान साझा करने के इच्छुक होंगे।

टीकाकरण रजिस्ट्रेशन में कुछ लोगों को हो रही दिक्कत पर राजेश भूषण ने कहा कि कई बार आलोचना के बावजूद CoWIN एप को ज्यादातर प्रशंसा मिली है। इसने खुद को एक बहुत ही मजबूत, सर्व-समावेशी, सरल आईटी-आधारित प्लेटफॉर्म के रूप में स्थापित किया है।

नेशनल मीडिया संेंटर में आयोजित संवाददाता सम्मेलन नीति आयोग के सदस्य डाॅ वीके पाॅल ने कहा कि  टीकों के ग्रामीण कवरेज पर उल्लेखनीय रूप से बल दिया गया है। बीते सोमवार को दी गई टीके की कुल खुराकों का 63.7 फीसदी गांवों में और 36 फीसदी शहरी क्षेत्रों में था।  उन्होंने कहा कि महिलाएं टीका लेने के मामले में पुरुष से अब भी काफी पीछे हैं। उन्होंने बताया कि सोमवार को टीका प्राप्त करने वालों में 46 फीसदी महिलाएं जबकि 53 फीसदी पुरुष थे। पॉल ने कहा कि महिलाओं में जागरुकता पैदा करने की जरूरत है और उन्हें आगे लाना है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि मुफ्त कोरोना टीकाकरण अभियान के बीच दिल्ली सरकार द्वारा 18+ समूह के लिए मुफ्त टीकों की आपूर्ति न करने का आरोप लगाया गया है। यह स्पष्ट किया जाता है कि भारत सरकार ने 21 जून से पहले राज्यों को सीधे राज्य खरीद के तहत टीकों की पूरी आपूर्ति सुनिश्चित की थी।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account