प्रमुख सुर्खियाँ :

Health News : रोगी के बेहतर परिणामों के लिए सटीक पीसीआई और साक्ष्य-आधारित उपचार नवाचारों के साथ हार्टकेयर चुनौतियों पर काबू


डॉ. संजय मित्तल

क्लिनिकल ऐंड प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी, हार्ट इंस्टीट्यूट मेदांता, नई दिल्ली

नई दिल्ली। साल 2020 में हमने दुनिया को हमारे समय की सबसे भीषण महामारी से जूझते देखा। संकट ने हमें भविष्य की निरंतर अनिश्चितताओं के संबंध में वर्तमान ज्ञान की सीमाओं का अहसास कराया। इस प्रकार नवाचारों के मूल्य और आवश्यकता पर जोर दिया। कोविड-19 के प्रकोप ने कुछ सबसे अधिक दबाव वाली स्वास्थ्य स्थितियों की ओर हमारा ध्यान आकर्षित किया, जिन्हें तत्काल संबोधित करने की जरूरत है। उनमें से एक है हार्ट केयर। पहले स्टेंट के दिनों से चिकित्सा विज्ञान ने महज हृदय की समस्याओं को प्रबंधित करने से लेकर उसकी निगरानी, पुनर्स्थापन और मरम्मत तक की प्रगति की है। मिनिमली इनवेसिव, परक्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन (पीसीआई) जैसी अगली पीढ़ी की तकनीक मौजूदा हार्टकेयर तौर-तरीकों में सफलता और सटीकता लाकर मरीजों को बेहतर जीवन जीने में मदद कर रही है।
आज हृदय रोग का सबसे आम कारण हृदय की रक्त वाहिकाओं में आनेवाली रुकावट है जिससे दिल का दौरा, एनजाइना या हार्ट फेलियर (ह्रदय धड़कन रुकना) होती है। हृदय वाहिकाओं में ये रुकावटें आमतौर पर कई वर्षों में वसा युक्त प्लाक के प्रगतिशील निर्माण के कारण होती हैं। यह रक्त वाहिका में अचानक आई रुकावट के कारण खून के थक्के बनने के कारण दिल का दौरा पड़ने जैसी आपात स्थिति पैदा कर सकती हैं। परक्यूटेनियस कोरोनरी इंटरवेंशन (पीसीआई) गैर-सर्जिकल प्रक्रिया हैं जिसका उपयोग इन अवरुद्ध हृदय रक्त वाहिकाओं को खोलने के लिए किया जाता है। इस प्रकार हृदय की मांसपेशियों को स्थायी क्षति से बचाया जाता है। इस प्रक्रिया के दौरान, एक बैलून-टिप्ड कैथेटर को उरुसंधी (पट्टा) या बाँह में रक्त वाहिकाओं में डाला जाता है। जब कैथेटर ह्रदय में संकुचित धमनी के बिंदु पर पहुंचता है, तो स्टेंट लगे गुब्बारे का सिरा फुलाया जाता है। यह जमे हुए प्लाक को दबाकर संकुचित कर देता है और स्टेंट का विस्तार कर देता है। एक बार सही ढंग से लगा देने के बाद यह स्टेंट वहाँ बना रहता है और गुब्बारे को पिचका कर वापस निकाल लिया लिया जाता है।
न्यूनतम इनवेसिव प्रक्रिया सामान्य रक्त प्रवाह को बहाल करती है, सीने में दिल से संबंधित दर्द कम करती है और लोगों को जीवन की बेहतर गुणवत्ता प्रदान करती है। दिल के दौरे के मामले में एक समय पर पीसीआई दिल की क्षति की प्रक्रिया को रोक सकता है। इस तरह यह दिल की रक्षा कर सकता है और जीवन बचा सकता है। पीसीआई के जरिए प्रत्यक्ष इमेजिंग चिकित्सकों को उपचार की सटीकता में मदद करती है।

हार्टकेयर में नवाचारों की जरूरत
1977 में जब पहली बार पीसीआई जैसी तकनीक (जटिलताओं के उच्च जोखिम वाले) पेश की गई थी तब से आज यह न केवल न्यूनतम इनवेसिव है, बल्कि इसने जोखिम भी कम है, हार्टकेयर में नवाचारों ने एक लंबा सफर तय किया है। विविध रोगी प्रोफाइल की समझ जिसके लिए उपचार की जरूरत होती है, वह भी पिछले कुछ वर्षों में विकसित हुई है। सीवीडी (हृदय धमनी रोग) का बोझ पिछले 25 वर्षों में लगभग दोगुना हो गया है। इसलिए, यह महत्वपूर्ण हो जाता है कि हम जोखिम वाले लोगों की पहचान करें और बीमारी को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने में मदद करें। आज हमारे पास हार्टकेयर थेरेपी में व्यापक पोर्टफोलियो हैं जो लागत प्रभावी, न्यूनतम इनवेसिव हैं और रोगी के परिणामों में सुधार करते हैं। सटीक पीसीआई तकनीक डिजाइन और बेहतर सुपुर्दगी में विकसित हुई है ताकि डॉक्टर परिणामों और सुरक्षा में विश्वास रखते हुए अधिक लचीलेपन और सटीकता के साथ मुश्किल-से-इलाज की रुकावटों को एक्सेस और अनब्लॉक कर सकें। ऑप्टिकल कोहेरेंस टोमोग्राफी (ओसीटी) कार्डियोलॉजिस्ट को धमनी के अंदर 10 गुना अधिक विस्तार से देखने की अनुमति देता है, अगर वे इंट्रावैस्कुलर अल्ट्रासाउंड का उपयोग कर रहे हैं।
ओपन-हार्ट सर्जरी या पीसीआई या अकेले मेडिकल थेरेपी के बीच का निर्णय, नैदानिक स्थिति के साथ-साथ हृदय वाहिकाओं में रुकावट के प्रकार और गंभीरता पर निर्भर करता है। उदाहरण के लिए अवरुद्ध धमनियों के कारण साँस की तकलीफ और सीने में दर्द से पीड़ित लोगों के लिए पीसीआई की सिफारिश की जाती है, खासकर अगर व्यक्ति को दिल का दौरा पड़ रहा हो। दूसरी ओर अगर व्यक्ति में कोई लक्षण नहीं है और स्थिति को दवाओं के जरिए नियंत्रित किया जा सकता है, तो हम पीसीआई की अनुशंसा नहीं करते हैं। उन्होंने कहा कि रुकावटों की गंभीरता और सीमा के लिए बाईपास हार्ट सर्जरी की जरूरत हो सकती है। अधिक जटिल हृदय रोग के लिए सर्वोत्तम उपचार दृष्टिकोण को अंतिम रूप देना अधिकांश चिकित्सकों के लिए एक चुनौती हो सकती है। ऐसे में यह उपचार का सबसे अच्छा विकल्प है। एक इंटरवेंशनल कार्डियोलॉजिस्ट की हृदय की रक्त वाहिकाओं में रुकावटों को खोलने और रक्त की आपूर्ति बहाल करने की क्षमता न केवल उनके अनुभव पर बल्कि उपलब्ध उपकरणों की गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है। इसलिए नवाचार किसी भी चिकित्सा देखभाल का आधार बनते हैं।

स्वस्थ हृदय के लिए जीवनशैली में बदलाव
एक बार जब रोगी को अस्पताल से राहत मिल जाती है तो हम विशिष्ट जीवनशैली में बदलाव की सलाह देते हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि हृदय की कार्यप्रणाली स्वस्थ है। उदाहरण के लिए, संतृप्त वसा को विशिष्ट सीमा तक कम करना (यह एक व्यक्ति-व्यक्ति में भिन्न हो सकता है), चीनी, सोडियम और ट्रांस-वसा को सीमित करना। कई रोगियों को लगता है कि शारीरिक रूप से सक्रिय होने का मतलब है आक्रामक कसरत करना जिससे उनका पसीना निकल जाए। व्यायाम के प्रकार के बारे में अपने चिकित्सक से मिलकर सलाह करना महत्वपूर्ण है जो आपकी विशिष्ट स्थिति या जरूरतों के अनुरूप होगा। आपको अपने लिए एक योजना बनानी चाहिए। जबकि पीसीआई एक रोगी को अधिक पूर्ण जीवन जीने में मदद कर सकता है, यह हृदय वाहिकाओं में दोबारा प्लाक बनना नहीं रोक सकता है। यह उचित जीवन शैली और दवायें ही हैं जो सभी अंतर लाएंगी।
इसमें शामिल जटिलताओं को देखते हुए, जटिल पीसीआई के लिए पूरे मनोयोग से फैसला लेना महत्वपूर्ण है। सटीक नेतृत्व वाली इमेजिंग और हस्तक्षेप के लिए अन्य अभिनव समाधानों ने जटिल पीसीआई की चुनौतियों को दूर करने और रोगियों को सर्वोत्तम परिणाम प्रदान करने में मदद की है। अब इस प्रगति का लाभ उठाने और भारत में हृदय देखभाल के स्तर को बढ़ाने का समय आ गया है।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account