प्रमुख सुर्खियाँ :

राजश्री बैनर के निर्माता राजकुमार बड़जात्या का निधन

मुंबई। हिंदी फिल्मों के निर्माण की पुरानी कंपनियों में से एक राजश्री की स्थापना करने वाले बड़जात्या परिवार के राजकुमार बड़जात्या का गुरुवार को मुंबई के एक अस्पताल में निधन हो गया। वे 72 साल के थे और पिछले दिनों मुंबई के एचएस रिलायंस अस्पताल में उनको भर्ती कराया गया था, जहां आज सुबह उन्होंने अंतिम सांस ली।
फिल्म इंडस्ट्री में राज बाबू के नाम से लोकप्रिय राजकुमार बड़जात्या के बेटे सूरज बड़जात्या ने सलमान खान के साथ मैंने प्यार किया की सफलता के साथ राजश्री बैनर की दिशा बदली थी। पारिवारिक फिल्मों के निर्माण के अग्रणी राजश्री बैनर की फिल्मों में बतौर निर्माता राजकुमार बड़जात्या ने हमेशा महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। अपने शोकाकुल परिवार में बेटे सूरज के साथ पत्नी सुधा को छोड़ गए हैं। राजश्री की स्थापना करने वाले तारा चंद बड़जात्या की विरासत को उनके तीन बेटों ने आगे बढ़ाया, जिनमें राजकुमार बड़जात्या के साथ अजित कुमार बड़जात्या और कमल बड़जात्या थे।
 हाल ही में बड़जात्या परिवार को ये लगा दूसरा सदमा है। 29 जुलाई 2016 को अजित कुमार बड़जात्या के बेटे रजत बड़जात्या का युवा उम्र में देहांत हो गया था। कैंसर पीड़ित रजत बड़जात्या सिर्फ 38 साल के थे।
 राजकुमार बड़जात्या के निधन की खबर से बालीवुड में शोक की लहर छा गई और सोशल मीडिया पर उनको श्रद्धांजलि दी जा रही है। राजश्री की मैंने प्यार किया, हम आपके हैं कौन और हम साथ साथ हैं जैसी फिल्मों में काम कर चुके मोहनीश बहल ने लिखा है कि वे आज अपनी मां नूतन की बरसी का शोक मना रहे हैं और आज ही उनको एक ऐसे आदमी के निधन का समाचार मिला, जो उनके लिए पिता तुल्य था। मोहनीश ने इसे दोहरा सदमा कहा है। सलमान खान को लेकर उनकी टीम की ओर से कहा गया है कि वे भारत की शूटिंग में व्यस्त हैं, लेकिन राजकुमार बड़जात्या के अंतिम संस्कार में शामिल होने के लिए कोशिशें जारी हैं।

टीम डिजिटल

Related Posts

leave a comment

Create Account



Log In Your Account