इन्द्रप्रस्थ संजीवनी ने शुरू किया मेरी मन की बात अभियान

नई दिल्ली। दिल्ली के कई सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधियों ने रविवार को नारायणा में एकत्रित होकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मन की बात सुनी। इन्द्रप्रस्थ संजीवनी एनजीओ के अध्यक्ष डॉ. संजीव अरोड़ा गंगापुत्र ने इस अवसर पर मेरी मन की बात अभियान की शुरुआत की। उन्होंने इस बारे में बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी को आज पूरी दुनिया सुनती है। देश का प्रत्येक युवा उनसे प्रभावित है। वह खुद प्रधानमंत्री जी को अपना आदर्श मानते हैं। इसलिए प्रधानमंत्री जी की महत्वाकांक्षी योजनाओं नमामिगंगे, स्वच्छ भारत मिशन, आत्मनिर्भर भारत और आजादी का अमृत महोत्सव को सफल बनाने के लिए इन्द्रप्रस्थ संजीवनी के हजारों कार्यकर्ता दिन-रात काम करते रहे है। प्रधानमंत्री ने कहा भी कि इतना बड़ा देश, इतनी विविधताएं, लेकिन बात जब तिरंगा फहराने की आई तो हर कोई एक ही भावना से ओत-प्रोत दिखाई दिया। तिरंगे के गौरव के प्रथम प्रहरी बनकर लोग खुद आगे आए।

अरोड़ा ने कहा कि प्रधानमंत्री चाहते हैं कि प्रत्येक भारतीय कर्मयोगी बने और अपनी सामाजिक जिम्मेदारी को समझे। डिजिटल इंडिया के विकास पर प्रधानमंत्री का विशेष जोर है। इसलिए उनके मन के भाव को आत्मसात करते हुए इन्द्रप्रस्थ संजीवनी ने आज मेरी मन की बात अभियान की शुरुआत की। इसके माध्यम से सेवा बस्ती के बच्चों से लेकर ओल्ड एज होम में रह रहे बुजुर्गों तक की प्रतिभा अथवा हुनर को सोशल मीडिया के माध्यम से प्रस्तुत किया जाएगा। इससे डिजिटल इंडिया को भी बढ़ावा मिलेगा और लोगों का हुनर भी देश-दुनिया के सामने आएगा।
मन की बात कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के तौर पर मौजूद पूर्व केंद्रीय मंत्री डॉ सत्यनारायण जटिया ने कहा कि डॉ. अरोड़ा की यह पहल काफी सराहनीय है। इससे देश के गुमनाम लोगों का हुनर एवं उनकी प्रतिभा देश के लोगों के सामने आएगी। उन्होंने आगे कहा कि आज जरूरत है तप की। तप माने तपस्या नहीं बल्कि समर्पण। समर्पण जैसे कि मन की बात, जिससे लोगों को प्रेरणा मिल सके। इंद्रप्रस्थ संजीवनी द्वारा मेरी मन की बात अभियान से उन लोगों को लाभ मिलेगा, जिनमें प्रतिभा और हुनर है, लेकिन उनके पास प्लेटफार्म नहीं है। वे इसके माध्यम से देश-दुनिया तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं।

इस कार्यक्रम में भाजपा नारायणा मंडल अध्यक्ष ललित रावत, वरिष्ठ पत्रकार सदानंद पांडेय आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.