उचित सेल लाइसेंस के बगैर हजारों कांटेक्ट लेंस व्यवसाय बाधित : MTAi

 

नई दिल्ली। मेडिकल टेक्नोलॉजी एसोसिएशन ऑफ इंडिया (MTaI) जो भारत में निर्माण, अनुसंधान एवं विकास में महत्वपूर्ण निवेश किया है साथ ही चिकित्सा प्रौद्योगिकी कंपनियों का प्रतिनिधित्व करता है, जिसने सीडीएससीओ नोटिस जीएसआर 754 (ई) का स्वागत किया है, जो रिटेलर्स और होल सेलर्स के लिए सेल लाइसेंस की आवश्यकताओं को सरल बनाता हैंऔर इसके बदले रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की अनुमति देकर चिकित्सा उपकरणों के स्टॉक या बिक्री में शामिल करता है। एसोसिएशन जो कॉन्टैक्ट लेंस उद्योग के एक महत्वपूर्ण हिस्से का प्रतिनिधित्व करता है, यह भी बताया कि सरल तरीके से बनाया गया सेल लाइसेंस की आवश्यकताएं सही इरादा के लिए हैं लेकिन उनके ऑन-ग्राउंड इम्प्लीमेंटेशन के बारे में चिंता व्यक्त की हैं।

MTaI के अध्यक्ष और महानिदेशक पवन चौधरी ने कहा, “ऑप्टिकल स्टोर्स और कॉन्टैक्ट लेंस क्लीनिकों में सेल लाइसेंस की आवश्यकता के बिना ही बाहर देश में कई दशकों से कॉन्टैक्ट लेंस और लेंस केयर उत्पाद बेचे जा रहे हैं। नए सेल लाइसेंस नियमों का हम स्वागत करते है| इसका मतलब यह होगा कि इन हजारों ऑप्टिकल दुकानों को अब रजिस्ट्रेशन के लिए इस क्रियाविधि से गुजरना होगा परन्तु इनमें से अधिकांश इकाइयों को सेल लाइसेंस की आवश्यकता और रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट को प्राप्त करने की प्रक्रिया के बारे में जानकारी नहीं है। इसने कॉन्टैक्ट लेंस व्यवसाय को बाधित किया है”।

“जबकि हम क्वालिटी और सेफ्टी के अनुपालन के अनुपालन सुनिश्चित करने के लिए सेल लाइसेंस आवश्यकताओं को सुगम बनाने के तरीके की सराहना करते हैं, इसके इम्प्लीमेंटेशन में कई बाधाओं का सामना करना पड़ रहा है-
1. सेल लाइसेंस/रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेशन रिक्वायरमेंट्स के बारे में ऑप्टिकल स्टोर और कॉन्टैक्ट लेंस क्लीनिकों के बीच जागरूकता की कमी
2. उचित प्रक्रिया के इम्प्लीमेंटेशन के लिए नियामकों के बीच तैयारियों का अभाव-

● कई राज्य लाइसेंसिंग प्राधिकरणों, जोन अधिकारियों और अन्य संबंधित अधिकारियों को अभी तक इस रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट की आवश्यकता के लिए पूरी तरह से अवगत नहीं किया गया है

● रजिस्ट्रेशन फॉर्म को अपलोड करने के लिए निर्धारित प्रक्रिया वर्तमान में पोर्टल पर उपलब्ध नहीं है और न ही इसे अपलोड करने की जगह है
3. देश भर में ऑप्टिकल स्टोर और कॉन्टैक्ट लेंस क्लीनिक के व्यापक भौगोलिक प्रसार के कारण आवेदन जमा करने से संबंधित चुनौतियां- पंजीकरण के लिए आवेदन करने के लिए एक ऑनलाइन क्रियाविधि के अभाव में, देश के छोटे शहरों में खुदरा विक्रेताओं को अपने संबंधित स्टेट लाइसेंसिंग अथॉरिटी (एसएलए)के लिए कार्यवाही करनी होगी , जहां अधिकारी इसे प्राप्त करने या अतिरिक्त भार की प्रक्रिया करने के लिए तैयार नहीं हो सकते हैं।

चौधरी ने कहा, एमटीएआई ने इन मुद्दों के बारे में सेंट्रल ड्रग्स स्टैण्डर्ड कण्ट्रोल आर्गेनाइजेशन (सीडीएससीओ) को अवगत कराया है और इसके समाधान के लिए उनके तत्काल हस्तक्षेप की उम्मीद भी की है।

इंडस्ट्री मुद्दों के समाधान के लिए सीडीएससीओ की सराहना करता है मगर अधिकारियों से अपील करता है कि वे इसका अनुपालन उचित कार्यविधि और समय सीमा के अंदर करें

बॉश एंड लॉब इंडिया के प्रबंध निदेशक संजय भूटानी ने कहा, “सबसे अधिक प्रभावित होंगे सक्रिय जीवन शैली वाले युवा जो अपनी रोज के गतिविधियों के लिए कॉन्टैक्ट लेंस पर निर्भर हैं। आँख के फिजियोलॉजी के आधार पर कॉन्टेक्ट लेंस में बीस हजार से अधिक शक्तियाँ होती हैं, इनमें से 95% पावर्स रिटेल स्टोर्स और ऑप्टोमेट्रिस्ट द्वारा स्टॉक नहीं की जाती हैं। अभ्यास के रूप में, रिटेल स्टोर्स डिस्ट्रीब्यूटर्स से रिक्वायर्ड पावर का आर्डर देता है और इसे पेशेंट को मुहैया करता है। 1 अक्टूबर से नई रजिस्ट्रेशन/सेल लाइसेंस प्रक्रिया के साथ, ऑप्टिकल स्टोर पहले से ही चुनौतियों का सामना कर रहे हैं क्योंकि वे रोगियों को कॉन्टैक्ट लेंस प्रदान करने में असमर्थ हैं। ‘एस्टिगमाटिस्म’ वाले रोगियों के लिए इम्प्लीमेंटेशन नियम और भी अधिक होंगे जिन्हें टॉरिक-लेंस की आवश्यकता होती है।”

भूटानी ने अपील की, “जीएसआर 754 (ई) के इम्प्लीमेंटेशन के लिए कार्यविधि तैयार होने तक, हम सीडीएससीओ से कांटेक्ट लेंस और लेंस केयर उत्पादों के लिए सेल लाइसेंस या रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट आवश्यकताओं के इम्प्लीमेंटेशन के लिए तत्काल विस्तार प्रदान करने का अनुरोध करते हैं। चूंकि अधिकांश ऑप्टिकल दुकानें और कॉन्टैक्ट लेंस क्लिनिक पहली बार रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया में शामिल हैं, इसलिए उन्हें नियमों को समझने और आवश्यक अनुमोदन लेने के लिए पर्याप्त समय चाहिए। इसलिए, इसे सुचारू रूप से सुनिश्चित करने के लिए 5-6 महीने का समय देना चाहिए “,।

Leave a Reply

Your email address will not be published.